Seismologist Kaise Bane/How to Become a Seismologist?

Seismologist Kaise Bane. सिस्मोलॉजी में करियर (Carer in Seismology) बनाने के बारे में शायद ही आपने कभी सोचा होगा। लेकिन इस फील्ड मे करियर की ढ़ेरों संभावनाएं हैं। सिस्मोलॉजी इंजीनियरिंग (Seismology engineering) की एक ऐसी ब्रांच है जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। इस फील्ड में प्रोफेशनल्स की मांग खूब बढ़ रही है।

आप भी सिस्मोलॉजिस्ट (Seismology Kaise bane) बनकर भूकंप (earthquake ) आने से पहले पूर्वानुमान लगाकर लोगों को बचा सकते हैं। तो चलिए बताते हैं  आज के इस लेख में  सिस्मोलॉजी में कॅरियर में कैसे बनाए इससे संबंधित जानकारी के बारे में जानतें है।

आज के इस लेख में करियर पीडिया आप के लिए लाया है, सीस्मोलॉजिस्ट कैसे बनें (Seismologist Kaise Bane/How to Become a Seismologist) इस करियर ऑप्सन के तहत हम इस लेख में हम जानगें कि क्या है सिस्मोलॉजी (What is seismology), सिस्मोलॉजिस्ट का काम (Work of seismologist) How to Become a Seismologist, शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification for seismologists), Seismologist course, Bachelor’s Course, Post graduate level course, Entrance Examination, प्रमुख शिक्षण संस्थान (Educational Institutions for Seismology), कहाँ हैं मौके (Where are opportunities in seismology), भर्ती करने वाली टॉप कंपनियां/एजेंसियां/संगठन, Top Recruiting Companies/ Agencies/ Organizations, सैलरी/Salary आदि के बारे में..

 Seismologist Kaise Bane/How to Become a Seismologist?

प्राकृतिक आपदाओं (Natural Disasters) में भूकंप वैज्ञानिकों (Scientist) के लिए आरंभ से ही चुनौती बना रहा है। वैज्ञानिक भी भूकंप (Earthquake) की आपदा (Disasters) का पूर्वानुमान (Forecast) लगाने में असमर्थ रहे हैं। कोई भी ऐसा यंत्र (Machine) या तकनीक (Technology) अभी तक ईजाद नहीं किया गया है, जो भूकंप आने से पहले इस की चेतावनी दे सके।

पर्यावरण असन्तुलन के कारण भूकम्प जैसी आपदाएँ बढ़ रही हैं। भूकम्प का पूर्वानुमान लगाकर इससे होने वाले विनाश को कम किया जा सकता है। यह क्षेत्र अपार सम्भावनाओं से भरा हुआ है। अगर आपकी इस क्षेत्र में रुचि है, तो सिस्मोलॉजिस्ट बनकर आप अपने करियर को उड़ान दे सकते हैं।

पिछले कुछ सालों में देखें तो भूकंप की घटनाओं में वृद्धि हुई है। रिकॉर्ड के मुताबिक नेशनल अर्थक्वेक इंफोर्मेशन सेंटर हर साल करीब 20,000 भूकंप रिकॉर्ड करता है। आए दिन भूंकप से होने वाली घटनाओं के बढ़ने के चलते सिस्मोलॉजी एक ऐसे करियर ऑप्शन के तौर पर उभरा हैं जिसमें आपको जॉब अपॉर्चुनिटी और अच्छी सैलेरी के साथ-साथ एक ऐसे फील्ड में काम करने (Seismologist Kaise Bane) का मौका मिलता है जो बेहद रोचक और चुनौतीपूर्ण है।

क्या है सिस्मोलॉजी (What is seismology)

सिस्मोलॉजी इंजीनियरिंग (Seismology engineering) की ही एक ब्रांन्च है। इसके तहत पृथ्वी की प्लेटों में बढ़ती हलचलों, भूकम्प  (Earthquake) सम्बन्धित क्षेत्रों में हो रहे विस्तार का पता लगाया जाता है। सिस्मोलॉजी (seismology) की पढ़ाई में पृथ्वी के भीतर होने वाले कम्पनों के कारणों के बारे में जाना जाता है।

इस कोर्स में भूकम्प की वजह से लोगों को होने वाले नुकसान के अलावा पर्यावरण (Environment) को होने वाली क्षति का भी स्टडी की  जाती है। एक भू-वैज्ञानिक (Geologist) का मुख्य उद्देश्य भूकम्प से होने वाले जान-माल के नुकसान को न्यूनतम करना होता है। एक सिस्मोलॉजिस्ट को भूकम्प आने के पहले और बाद की घटनाओं और इसके कारण पर्यावरण पर पड़ने वाले असर का स़्टडी करना होता है।

सिस्मोलॉजिस्ट का काम (Work of seismologist)

भूकंप विज्ञान भूभौतिकी की एक शाखा है जो भूकंप के स्टडी से संबंधित है। तो एक सिस्मोलॉजिस्ट, सरल शब्दों में, भूकंप का अध्ययन करता है। भूकम्प से होने वाली तबाही के लिये मिट्टी की स्थिति, जियोलॉजिकल स्ट्रक्चर और टेक्टोनिक गतिविधियाँ जिम्मेदार हैं। सिस्मोलॉजिस्ट अपनी स्टडी से जानकारी जुटाकर लोगों के लिये ऐसा स्ट्रक्चर तैयार करवाने पर जोर देते हैं, जो भूकम्प जैसे खतरों से बचा सके।

सिस्मोलॉजिस्ट के रिसर्च और स्टडी का उपयोग सुरक्षित भवनों के स्ट्रक्चर के कंस्ट्रक्शन में , बेहतर पर्यावरण, एनर्जी इंडस्ट्री में उपयोग आदि के लिए किया जाता है। आज के समय में तेजी से शहरी करण हो रहा है ऐसे में बहमंजिला इमारतें, इन्फ्रास्ट्रक्चर, और कई प्रकार का स्ट्रक्चर  कंस्ट्रक्शन किया जा रहा है।  ऐसे कंस्ट्रक्शन में भूकम्परोधी तकनीक का अनदेखा नहीं किया जा सकता है। यही कारण है कि इस फील्ड में तेजी से रिसर्च वर्क हो रहें है। जिससे कंस्ट्रक्शन में भूकम्परोधी ख्याल रखा जा सकें।

सिस्मोलॉजिस्ट के अन्य जिम्मेदारी  में पृथ्वी की पपड़ी की गहरी परतों का स्टडी करना और यह समझना है कि भूकंप किस कारण से उत्पन्न हो सकता है और यदि ऐसा होता है तो भूकंप कितने समय तक चलेगा। एक सिस्मोलॉजिस्ट लोगों से मिलता है और अलग-अलग जगहों पर भूकम्प के खतरे का पता लगाकर आगे का काम शुरू करता है। भूकम्प क्षेत्र के विस्तार, भूकम्प का पूर्वानुमान लगाना भी सिस्मोलॉजिस्ट (Seismologist Kaise Bane) का ही कार्य होता है।

How to Become a Seismologist?

शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification for seismologists)

सिस्मोलॉजिस्ट ( Seismologist Kaise bane) बनने के लिये आपके पास 12वीं में 50 प्रतिशत अंकों के साथ फिजिक्स, जियोग्राफी, केमिस्ट्री और मैथ ( physics-geography- chemistry-mathematics) विषय होना जरूरी है। इस क्षेत्र में स्नातक से लेकर पीएचडी तक की पढ़ाई की जा सकती है। इस क्षेत्र में आगे बढ़कर रिसर्चर भी बना जा सकता है।

जो स्टुडेंट जियोफिजिक्स विषय लेकर पढ़ना चाहते हैं, उनके लिये भी इस क्षेत्र में सम्भावनाएँ हैं। इस कोर्स में जियोग्राफी और फिजिक्स की पढ़ाई एक साथ की जाती है। इसमें सिस्मोलॉजी, ऑयल एक्सप्लोरेशन और ग्राउंड वाटर जैसे विषयों की जानकारी भी दी जाती है।

Seismologist course

Bachelor’s Course

भौतिकी-भूगोल-रसायन विज्ञान-गणित में 10 + 2 करने का बाद स्टुडेंट को ग्रेजुएट लेवल के कोर्स में प्रवेश लेने की आवश्यकता होती है।  सीस्मोलॉजिस्ट करियर के लिए ग्रेजुएट लेवल के कोर्स कुछ इस प्रकार हैं।

Popular Bachelor’s Level Programmers

B.Sc. in Geology

B.Sc. in Physics

B.Sc. in Chemistry

B.Sc. in Mathematics

B.Tech in Energy Engineering

B.Tech. in Geo technical Engineering

B.Sc. in Geophysics

B.Sc. in Geo informatics

B.Sc. in Earth Science

 B.Tech Earth Science

Post graduate level course-

जियोलॉजी, जियोफिजिक्स, फिजिक्स या फिर एप्लाइड साइंस में डिग्री लेने के बाद आप सिस्मोलॉजी में स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं। देश की बहुत सी यूनिवर्सिटी जियोफिजिक्स में एमटेक प्रोग्राम चला रही हैं। अर्थक्वेक इंजीनियरिंग में आप मास्टर ऑफ इंजीनियरिंग या मास्टर ऑफ टेक्नोलॉजी की डिग्री भी हासिल कर सकते हैं।

Popular Master’s level programmed

M.Sc. in Geology

M.Sc. in Physics

M.Sc. in Chemistry

M.Sc. in Mathematics

M.Tech in Energy Engineering

M.Tech. in Geo technical Engineering

M.Sc. in Geophysics

M.Sc. in Geo informatics

M.Sc. in Earth Science

Entrance Examination

कई विश्वविद्यालय और कॉलेज प्रवेश प्रदान करने के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करते हैं। कैडिडेंट को संबंधित विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की प्रवेश परीक्षा में शामिल होना आवश्यक है। हमने नीचे लोकप्रिय प्रवेश परीक्षा का उल्लेख किया है।

Popular Entrance Examination

  • जेईई मेन्स/JEE Mains
  • जेईई एडवांस्ड/JEE Advanced
  • बिटसैट/BITSAT
  • VITEEE

Helpful certifications and internships

भूकंपविज्ञानी बनने चाहत रखने वाले कैडिडेट के लिए ऐसे प्रमाणपत्र और इंटर्नशिप हैं जो करियर में सहायक हो सकते हैं?

  • मृदा यांत्रिकी/भू-तकनीकी इंजीनियरिंग /Soil Mechanics/Geotechnical Engineering
  • विषय: भूविज्ञान: पेपर – मेटामॉर्फिक पेट्रोलॉजी और थर्मोडायनामिक्स / Geology: Paper – Metamorphic Petrology & Thermodynamics
  • नवीनतम संशोधन सहित खनन प्रौद्योगिकी, सुरक्षा, कानून /Mining Technology, Safety, Legislation including the Latest Amendment
  • Biogeography

प्रमुख शिक्षण संस्थान (Educational Institutions for Seismology)

  • आईआईटी, कानपुर वेबसाइट: http://www.iitk.ac.in
  • आईआईटी, रुड़की वेबसाइट: www.iitr.ac.in
  • आईआईटी, खड़गपुर वेबसाइट: www.iitkgp.ac.in
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी वेबसाइट: www.bhu.ac.in
  • उस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद वेबसाइट www.osmania.ac.in
  • मुम्बई विश्वविद्यालय, महाराष्ट्र वेबसाइट: www.mu.ac.in
  • रुक्षेत्र यूनिवर्सिटी, हरियाणा वेबसाइट: www.kuk.ac.in
  • अन्ना विश्वविद्यालय, चेन्नई वेबसाइट: www.annauniv.edu

कहाँ हैं मौके (Where are opportunities in seismology)

आजकल फ्लैट कल्चर तेजी से फैल रहा है। मेट्रो सिटीज में बहुमंजिला इमारतें बन रही हैं। ऐसे में सिस्मोलॉजी एक बेहतर करियर विकल्प बनकर उभरा है। आज के समय में हर बड़ी इमारत से लेकर घरों तक के निर्माण में लोग भूकंपरोधी तकनीक का इस्तेमाल कर रहे हैं।

अब यह क्षेत्र केवल आपदा या उसके बाद के आकलन तक ही सीमित नहीं रह गया है। देश की कई डेवेलपमेंट अथॉरिटियों ने भवन के निर्माण में भूकंपरोधी तकनीक के इस्तेमाल को अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में सिस्मोलॉजी से जुड़े प्रोफेशनल्स की मांग और भी बड़ जाती है।

सिस्मोलॉजी से जुड़ा कोर्स करने के बाद इस क्षेत्र में सरकारी और प्राइवेट दोनों ही तरह की नौकरियों के ढ़ेरो ऑप्शन मौजूद हैं। सरकारी क्षेत्रों में भी विशेषज्ञों की माँग है। चाहें, तो आप किसी अच्छे शिक्षण संस्थान में शिक्षक का कार्य भी कर सकते हैं। ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां एक भूकंपविज्ञानी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कुछ क्षेत्र/उद्योग जहां भूकंपविज्ञानी (Seismologist Kaise Bane) को रोजगार मिल सकता है, वे इस प्रकार हैं: –

  • अनुसन्धान संस्थान/Research Institutes
  • पैट्रोलियम उद्योग/Petroleum Industry
  • दूरसंचार/Telecommunication
  • सरकारी संगठन/Government Organizations
  • Geothermal Power Industry
  • भूतापीय विद्युत उद्योग/Nuclear Research Centers
  • निर्माण स्थल/Construction Sites
  • खुदाई/Mining

भर्ती करने वाली टॉप कंपनियां/एजेंसियां/संगठन | Top Recruiting Companies/ Agencies/ Organizations

  • भूकंपीय अनुसंधान संस्थान/Institute of Seismological Research
  • अल्फाजियो (इंडिया) लिमिटेड/Alphageo (India) Limited
  • राष्ट्रीय पृथ्वी विज्ञान अध्ययन केंद्र/National Centre For Earth Science Studies
  • राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय/National Centre For Seismology, Ministry Of Earth Sciences
  • महासागर सूचना सेवाओं के लिए भारतीय राष्ट्रीय केंद्र/Indian National Centre for Ocean Information Services
  • राष्ट्रीय भूभौतिकीय अनुसंधान संस्थान/National Geophysical Research Institute

सैलरी/Salary

एजूकेशन के लेवल और वर्क एक्पीरिन्स के आधार पर, सिस्मोलोजिस्ट (Seismologist Kaise Bane) की सैलरी अलग-अलग सकती है। कैडिडेंट की सैलरी उस ऑर्गेनाइजेशन पर भी निर्भर करता है जिसके साथ वे काम कर रहे हैं। सिस्मोलॉजी के क्षेत्र में एन्ट्री लेवल की स्थिति में 7 से 8 लाख का सालाना सैलरी पैकेज हो सकता है।  अनुभव होने पर सैलरी में बढ़ौत्तरी होती है। इस फील्ड में कई करियर प्रोफाइल होते है। इसके अलावा आप अपनी रुचि के मुताबिक किसी शिक्षण संस्थान में शिक्षक का कार्य भी कर सकते हैं।

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल, सुझाव या इस लेख में कोई त्रुटि रह गई है तो हमे कॉमेंट और Email कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page, Instragram और  Telegram channel पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!

Leave a Comment