Pathologist Kaise Bane:- How to make career in Pathology?

Pathologist kaise bane क्या आप मेडिकल फील्ड में करियर बनाने में रुचि रखते हैं लेकिन एमबीबीएस नहीं करना चाहते थे तो आप मेडिकल फील्ड में नर्सिंग, पैथोलॉजिस्ट, जैसे आदि कई अन्य विकल्प को चुन सकते है।

क्या पैथोलॉजिस्ट बनने के बारे में सोच रहें है, पैथोलॉजिस्ट कैसे इसके बारे में जानकारी को चाहते है तो आप सही लेख को पढ़ रहें है। आज के इस लेख में करियर पीडिया आप के लिए लाया है ऐसे खास करियर ऑप्सन पर जानकारी यानि की पैथोलॉजिस्ट कैसे इसके बारे में इस लेख में जानेगें।

इस लेख में पैथोलॉजिस्ट कैसे बनें इस करियर तहत What is Pathology, Why Choose a Career in Pathology,  Eligibility Requirements, Course Details, How to Become a Pathologist,  Top  Universities, Top Recruiters, Salary,   specialization आदि का बारे में जानेगें।

Pathologist kaise bane

आज के समय मे हर स्टूडेंट्स अपने करियर के लिए जागरुक है। कोई इंजीनियर बनने का सपना देखता है, तो कोई डॉक्टर, और कोई नए करियर ऑप्सन चुनना चाहता है आज की इस लेख में हम आपको एक ऐसे ही करियर ऑप्शन के बारे में बतायेंगे। जिसमे करियर की असीम संभावनाएं मौजूद है। इसका वर्तमान में तो स्कोप है ही, लेकिन फ्यूचर में तो और भी ज्यादा स्कोप होगा।

मेडिकल फील्ड में यूं तो करियर की असीम संभावनाएं मौजूद हैं, लेकिन पैथोलॉजी को एक (Pathologist Kaise Bane) बेहतरीन ब्रांच माना जाता है। यह सबसे पुराने मेडिकल सब्जेक्ट में से एक है। और पैथोलॉजी मेडिकल फील्ड की यह प्रमुख शाखा है। साल 2020 से फैले इस कोरोना वायरस के कठिन दौर में पैथोलॉजिस्ट एक कोरोना वॉरियर्स के रूप में सामने आए हैं।

इस क्षेत्र की महत्ता का अंदाजा मौजूदा हालात में आसानी से समझा जा सकता है। इसलिए मेडिकल के क्षेत्र में इसकी काफी ज्यादा डिमांड रहती है। वर्तमान समय मे जिस तरह से कोरोना महामारी चल रही है। ऐसे में तो और भी ज्यादा कुशल पैथौलॉजी (Pathologist kaise bane)  एक्सपर्ट की जरूरत बढ़ रही है।

 Why Choose a Career in Pathology?

पैथोलॉजी में (Pathologist Kaise Bane) करियर बनाने के कई  फायदे हैं और इस फील्ड में रोजगार के अच्छे अवसर उपलब्ध है। पैथोलॉजी में करियर के बारे में ऐसे कारण बता रहें ऐसे में कैडिडेंट पैथोलॉजी में करियर बनाने की सोच सकते है।

  • पैथोलॉजिस्ट हमेशा डिमांड में रही हैं और भविष्य में भी रहेगी। छात्रों को पैथोलॉजी के भविष्य के दायरे के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी इसका व्यापक दायरा है।
  • पैथोलॉजिस्ट एक क्षेत्र तक सीमित नहीं हैं। पैथोलॉजिस्ट के पास  हेल्थ सर्विस, लैबोरेटरी, हॉपिटल के आलावा और भी फील्ड में रोजगार के अवसर हैं।
  • पैथोलॉजिस्ट मेडिकल फील्ड में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे बीमारियों और बीमारी के कारण की पहचान करते हैं जो डॉक्टरों को मरीजों का बेहतर इलाज करने में मदद करता है।

What is Pathology?

पैथोलॉजी को (Pathologist Kaise Bane) आमतौर पर बीमारी के स्टडी के रूप में पहचाना जाता है जो साइन्स और मेडिकल के बीच पुल करता है। किसी भी पेशेन्ट का इलाज करने से पहले डॉक्टर ये जानने की कोशिश करते हैं कि उस रोगी को बीमारी कौन सी है।  उस बीमारी को जानने और परखने के लिए पैथोलोजिस्ट विभिन्न अंगों, ऊतक, रक्त, अन्य शरीर के तरल पदार्थ का सैंपल लेकर लैब भी उपकरणों की मदद से जांच करते हैं। उसकी रिपोर्ट तैयार करते है, फिर उसे डॉक्टर के सामने प्रस्तुत किया जाता है।

Who are the pathologists?

एक पैथोलॉजिस्ट  एक चिकित्सक है जो ऊतकों की जांच करता है और लेबोरेटरी  में टेस्टिंग की सटीकता की जांच करता है। रोगी के हेल्थ की देखभाल में पैथोलॉजिस्ट बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। पैथोलॉजी में, रोगी के नमूनों पर विभिन्न लेबोरेटरी परीक्षण किए जाते हैं जो रोगी के निदान और उपचार की सुविधा प्रदान करते हैं। इसके अलावा

What do pathologists do?

पैथोलॉजिस्ट का मुख्य काम विभिन्न टेस्ट को कंडक्ट करना होता है। वह किसी विशेष बीमारी के कारण की जाँच करके संबंधित डॉक्टरों को दवा और इलाज के बारे में सूचित करता है। पैथोलॉजिस्ट पौधे, जानवर या मानव पैथोलॉजी दोनों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। पैथोलॉजिस्ट के काम कई काम होते है।

जैसे पैथोलॉजिस्ट अपने काम में विभिन्न टेस्टिंग की सटीकता की जांच के लिए  माइक्रोस्कोप  का उपयोग करते है। पैथोलॉजिस्ट यह पता लगाने की कोशिश में लगे रहते हैं कि कौन सी बीमारियाँ जीवित रोगियों को प्रभावित कर रही हैं।

पैथोलॉजिस्ट संक्रमण, वायरस और कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए नए और बेहतर उपचार खोजने के लिए अनुसंधान और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वास्तव में, प्रत्येक रक्त परीक्षण, कैंसर स्क्रीनिंग परीक्षण, बायोप्सी नमूना या संक्रमण की खोज में एक पैथोलॉजी टीम शामिल होती है।

जो पैथोलॉजिस्ट मानव रोगों से निपटते हैं, आमतौर पर अन्य चिकित्सकों के परामर्शदाता के रूप में कार्य करते हैं, और इस प्रकार रोगियों की दैनिक देखभाल में योगदान करते हैं। रोगों की प्रकृति का अध्ययन करने के साथ, वे उन बीमारियों के निपटान के उपचार और अन्य साधनों की खोज करने की कोशिश करते हैं।

यह भी पढ़े-

Fake Universities in india 2021 in hindi- इन fake universities से रहें सावधान!

Brand Manager Kaise bane/ How to become a Brand Manager?

Information Officer kaise bane:-Information Officer qualification, selection process, salary & more

Statistician kaise bane/How to become statistician?

Dogecoin cryptocurrency kya hai/What is Dogecoin cryptocurrency?

Course Details

भारत में कई मेडिकल इंस्टीट्यूट और विश्वविद्यालय हैं जो पैथोलॉजी के क्षेत्र में शिक्षा प्रदान करते हैं। इस क्षेत्र में सर्टिफिकेट से लेकर मास्टर  तक कई कोर्स ऑफर किए जाते हैं। पैथोलॉजी में जाने के लिए यह कोर्स कर सकते है, तो चलिए इन पैथोलॉजी कोर्स के बारे में जानते है।

Courses & Duration

Certificate Courses – 1 year

  • PDCC (Blood Banking & Immunohaematology)
  • PDCC (Blood Component Therapy & Apheresis)
  • PDCC (Hepatopathology)
  • PDCC (Renal Pathology)
  • Post MD Certificate course in Cytopathology
  • Post MD Certificate course in Immunopathology

Diploma Courses:

  • Diploma in Pathology – 2 years
  • Diploma in Clinical Pathology – 2 years
  • Post Graduate Diploma in Clinical Pathology – 2 years
  • Post Graduate Diploma in Human Genetics and Pathological Techniques (PGDHGPT) – 15 months

Bachelor Courses:

  • Bachelor of Audiology Speech and Language Pathology – 4 years

Master Courses:

  • Master of Science (M.Sc.) in Pathology – 2 years
  • Master of Dental Surgery in Oral Pathology – 3 years
  • Doctor of Medicine in Pathology – 3 years

Doctoral Courses:

  • Doctor of Philosophy in Pathology – 3 years
  • Doctor of Philosophy in Speech Pathology and Audiology – 3 years

 Eligibility Required:

  • UG Courses:यूजी कोर्सें में एडमिशन लेने के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी (PCB group) के साथ 10+2 पास की न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता आवश्यक है।
  •  PG Courses: संबंधित विषय में स्नातक की डिग्री उत्तीर्ण करने के बाद आप पीजी कोर्स के लिए पात्र होंगे। डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (एमडी) कार्यक्रम में प्रवेश एमबीबीएस पाठ्यक्रम के सफल समापन के बाद दिया जाएगा।

Admission Process

कुछ कॉलेज योग्यता परीक्षा में अंकों के आधार पर प्रवेश देते हैं या उनमें से कुछ प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रवेश प्रदान करते हैं।  कई विश्वविद्यालय / संस्थान प्रवेश प्रदान करने के लिए अपनी स्वयं की प्रवेश परीक्षा को नियंत्रित करते हैं। एमबीबीएस कोर्समें प्रवेश नीट के माध्यम से किया जाता है। स्नातकोत्तर स्तर की कुछ मेडिकल प्रवेश परीक्षा जिपमर पीजी (JIPMER PG ) , एम्स पीजी  AIIMS PG आदि हैं।

Top 10 Universities

  • सेंट जॉन्स मेडिकल कॉलेज, बैंगलोर/St Johns Medical College, Bangalore
  • एएफएमसी पुणे – सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज/AFMC Pune – Armed Forces Medical College
  • एचआईएमएसआर नई दिल्ली – हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च/HIMSR New Delhi – Hamdard Institute of Medical Sciences and Research
  • वैदेही इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च सेंटर, बैंगलोर/Vydehi Institute of Medical Sciences and Research Centre, Bangalore
  • एसआरएम मेडिकल कॉलेज अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, चेन्नई/SRM Medical College Hospital and Research Centre, Chennai
  • बीजे गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, पुणे/BJ Government Medical College, Pune
  • उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय, सैफई/Indira Gandhi Medical College, Shimla
  • Uttar Pradesh University of Medical Sciences, Saifai
  • सप्तगिरी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च सेंटर, बैंगलोर/Sapthagiri Institute of Medical Sciences and Research Center, Bangalore
  • पंजाब आयुर्विज्ञान संस्थान, जालंधर/Punjab Institute of Medical Sciences, Jalandhar

Career Scope

 मेडिकल फील्ड में पैथोलॉजिस्ट (Pathologist kaise bane) की कई भूमिका में काम करते है। इसलिए उनके लिए कई जॉव से अवसर मिलते हैं। इस फील्ड में जाने वाले कैडिडेंट हिस्टोपैथोलॉजी और साइटोपैथोलॉजी की एक विशेष शाखा में विशेषज्ञता के लिए पैथोलॉजी का चयन कर सकते हैं और आगे उस संगठन में शामिल हो सकते हैं जो ज्यादातर उस विशेषता से संबंधित है।

पैथोलॉजिस्ट आमतौर पर तीन व्यापक क्षेत्रों में कार्य करते हैं- अस्पतालों में डायग्नोस्टिक्स के रूप में   चिकित्सा लेबैरेटरी में जांचकर्ता या शोधकर्ता और कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में शिक्षकों के रूप में।

यदि आप क्लिनिकल पैथोलॉजी में जाना चाहते है आप निजी या कॉर्पोरेट संस्थानों के लिए काम में कर सकते है जैसे कैडिडेंट  एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) और सैन्य और सरकारी एजेंसियों जैसे राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान, सशस्त्र बल पैथोलॉजी संस्थान और खाद्य एवं औषधि प्रशासन टॉप  हॉस्पिटल में भी शामिल हो सकते हैं।

Specializations:

  • Neuropathology
  • Chemical Pathology
  • Forensic Pathology
  • Surgical Pathology
  • Medical Microbiology
  • Blood Banking / Transfusion Medicine
  • Hematology
  • Cytopathology
  • Dermatopathology
  • Paediatric Pathology
  • Veterinary Pathology
  • Blood Banking / Transfusion Medicine

Salary

 इस फील्ड में कैडिडेंट को अच्छी मिलती है। हांलाकि शुरुआत के तौर पर कम सैलारी मिल सकती है।  पैथोलॉजिस्ट का शुरुआती वेतन 15,000 रुपये से 25,000 रुपये तक होता है। अनुभव प्राप्त करने के बाद सैलरी वृद्धि होती है और यह प्राइवेट फील्ड में 60,000 रुपये प्रति माह और इससे ज्यादा भी मिल सकती है।

 Job types for pathologists:

  • Medical Examiner
  • Consultants
  • Cytotechnologist
  • Dermatopathologist
  • Forensic Technician
  • Professors
  • Mortuary Assistant
  • Medical Lab Technician

Top Recruiters

 

  • Dr Lal Pathlabs
  • SRL Diagnostics
  • Suburban Diagnostics
  • Thyrocare
  • Oncquest Laboratories Ltd
  • Medall Healthcare Pvt Ltd

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल, सुझाव या इस लेख में कोई त्रुटि रह गई है तो हमे कॉमेंट और Email कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page, Instragram और  Telegram channel पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!

Leave a Comment