Meteorologist Kaise bane : Career as a Meteorologist/ How to become Meteorologist?

meteorologist kaise bane

Meteorologist Kaise bane: आप डेली टीवी पर या न्यूजपेपर में यह जानकारी जरूर देखते होंगे कि आज का मौसम कैसे रहेगा, किस क्षेत्र में बारिश होगी,या फिर तेज धूप रहेगी। किस क्षेत्र में मौसम सुहावना रहेगा या किस किस क्षेत्र में किसी भी प्रकार की तेज आंधी या तूफान की संभावना है और यहां तक की आने वाले दिनों के लिए अपना प्लान आपने  मौसम के मिजाज के हिसाब से बनाते होंगें।

क्या कभी आप ने सोचा है कि मौसम की पुर्वाआनुमान कैसे लगाया जाता है। कैसे स्टडी की जाती है और इस फील्ड में करियर बनाने कैसे बनाएं या फिर भूगोल मे रुचि है, तो यह करियर आपके लिए बेहतर साबित हो सकता है। आज के इस लेख में करियर पीडिया आप के लिए एक खास करियर ऑप्सन Meteorologist Kaise bane : Career as a Meteorologist/ How to become Meteorologist? पर महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में तो इस लेख को पूरी पढ़ें।

आज के इस लेख में Meteorologist Kaise bane इस करियर ऑप्सन के तहत एक  Who is a Meteorologist,What is Meteorology?
How to Become a Meteorologist, Courses & Eligibility, Types of Job Roles Meteorologist, Branches of Meteorology
Job opportunities,  Become a Meteorologist Abroad, Meteorology Salary, आदि के बारे में…

क्या होता है मौसम विज्ञान / What is meteorology?

मौसम विज्ञान या मेटियोरोलॉजी atmosphere का वैज्ञानिक अध्ययन  scientific study  है, जो मौसम की प्रक्रियाओं और पूर्वानुमान पर केंद्रित है। मेटियोरोलॉजी की सटीक जानकारी से कई प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले जान माल के नुकसान से यकीनन बचा जा सकता है।मेटियोरोलॉजी शब्द ग्रीक शब्द ‘मिटिऔरल’ से बना है जिसका अर्थ होता है आकाश में घटित होने वाली कोई घटना। इसका अध्ययन भूगोल विषय के अंतर्गत किया जाता है।

मेटियोरोलॉजी स्पेशलिस्ट को मेटियोरोलॉजिस्ट या जलवायु विज्ञानी अथवा वायुमंडल वैज्ञानिक कहा जाता है। देश-दुनिया में आजकल क्लाईमेंट चेन्ज, लगातार हो रहें पर्यावरण में परिवर्तन, आदि कारणों के वजह से मेटियोरोलॉजी एक्सपर्ट्स की मांग काफी बढ़ गयी है।

मेटियोरोली एक अत्यंत अंतःविषय विज्ञान (highly interdisciplinary science) है, जो पृथ्वी के atmosphere इसकी प्रक्रियाओं और इसके स्टक्चर  की हमारी समझ में सहायता करने के लिए भौतिकी और रसायन विज्ञान के नियमों को ड्राइंग करता है। इस क्षेत्र में वेदर और क्लाईमेंट दोनों शामिल है। यह पृथ्वी के atmosphere की भौतिक, गतिशील और रासायनिक स्थिति और atmosphere और पृथ्वी की सतह के बीच परस्पर क्रिया से संबंधित है।

 

एक मौसम विज्ञानी कौन होता है / Who is a Meteorologist?

मेटियोरोलॉजिस्ट जिसे हम मौसम विज्ञानी (Meteorologist kaise bane) भी कहते है। मेटियोरोलॉजिस्ट एक ऐसा प्रोफेशनल व्यक्ति होता है जिसका काम वेदर का स्टडी अध्ययन करने के साथ-साथ आकाश के वायुमंडल () के बारे में पूर्व अनुमान लगाना होता है। मौसम विज्ञानी पृथ्वी के वायुमंडल और भौतिक वातावरण, पृथ्वी पर उनके विकास, प्रभाव और परिणामस्वरूप हम पर अध्ययन करते है।

मौसम विज्ञानी मौसम और जलवायु को समझने और उनकी भविष्यवाणी करने के लिए विज्ञान और गणित का उपयोग करते हैं। साथ ही साथ यहां जानकारी दे दें कि ये प्रोफेशन कुछ हद तक जलवायु वैज्ञानिक और वायुमंडल वैज्ञानिक के नाम से भी जाना जाता है। पर्यावरण में बदलाव होने वाली प्रक्रियाओं के बारे में भी मौसम विज्ञान के द्वारा पता लगाया जाता है जोकि केवल एक मौसम विज्ञानी ही कर सकता है।

मौसम विज्ञानी कैसे बनें / How to Become a Meteorologist?

जो छात्र मेटियोरोलॉजिस्ट (Meteorologist kaise bane) बनना चाहते हैं उन्हें  सबसे पहले छात्र को साइंस विषय के साथ अपनी इंटर यानी की 12वीं कक्षा पास करनी होती है। इसके बाद स्टूडेंट ग्रेजुएशन कोर्स में यानी बी.एससी का विकल्प चुन सकते हैं। या अपने + विज्ञान (कक्षा 12 वीं) के पूरा होने के  बाद बी.टेक चुन सकते है।

बी.टेक के बाद, छात्र हाई लेवल की जॉब्स या रिसर्च पोस्ट  के लिए मौसम विज्ञान में एम.टेक या एम.एससी और पीएचडी भी सकते है। इसके बाद में छात्र मौसम विज्ञानी के पदों के लिए कर्मचारी चयन आयोग या भारत सरकार / यूपीएससी द्वारा आयोजित भर्ती परीक्षा में भी शामिल हो सकते हैं।

एक मास्टर प्रोग्राम यानी एम.एससी या एम.टेक आमतौर पर स्नातक की डिग्री के बाद दो साल में पूरा किया जा सकता है।  इस कार्यक्रम में प्रवेश के लिए आमतौर पर मौसम विज्ञान, भौतिकी, इंजीनियरिंग या संबंधित विषयों में स्नातक की डिग्री की आवश्यकता होती है। देश में आईआईटी सहित कई विश्वविद्यालय मौसम विज्ञान/वायुमंडलीय विज्ञान में यूजी और पीजी कोर्स  संचालित कर रहें है।

 

यह भी पढ़ें-

Climatologist Kaise bane: Career in climatology/ How to Become a Climatologist

Hydrologist Kaise Bane/ Become a Hydrologist/ Career in Hydrology/ हाइड्रोलॉजिस्ट कैसे बनें?

NIRF 2021 Medical, Dental & Pharmacy Ranking List in hindi/ यहां देखें भारत के टॉप 10 मेडिकल, डेंटल और फार्मेसी कॉलेजों की पूरी सूची

Helicopter Pilot Kaise bane/How to become a helicopter pilot?

Marine Biologist kaise bane: How to become a Marine biologist?

 

कोर्स / Courses 

  • डिप्लोमा इन मेटियोरोलॉजी
  • बीएससी इन मेटियोरोलॉजी
  • बी टेक इन मेटियोरोलॉजी
  • एमएस सी इन मेटियोरोलॉजी
  • एम टेक इन मेटियोरोलॉजी
  • पीएचडी इन मेटियोरोलॉजी

पात्रता / Eligibility 

  • मौसम विज्ञान में डिप्लोमा करने के लिए, कक्षा 10th प्रमुख योग्यता है।
  • मौसम विज्ञान पर बी.एससी या बी.टेक करने के लिए, विज्ञान स्ट्रीम में कक्षा 12 / मौसम विज्ञान में डिप्लोमा प्रमुख योग्यता है। प्रवेश पाने के लिए कैडिडेंट को नेशनल  लेवल की प्रवेश परीक्षाओं जैसे जेईई मेन / जेईई एडवांस या राज्य स्तरीय इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में अच्छी रेंक होनी चाहिए।
  • मौसम विज्ञान में M.Tech या M.Sc के लिए, मौसम विज्ञान में B.Tech/ B.Sc प्रमुख योग्यता है।
  • M.Phil या Ph.D. करने के लिए M.Tech/ M.Sc प्रमुख योग्यता है। कई संस्थान गेट स्कोर के माध्यम से एम.टेक/एमएससी में प्रवेश प्रदान करते हैं।

Top Institutes/Universities

  • Bharathiyar University/भारथियार विश्वविद्यालय
  • आईआईटी खड़गपुर IIT Kharagpur
  • आई.आई.टी. दिल्ली/IIT. Delhi
  • वायुमण्डल एवं समुद्री विज्ञान केन्द्र/Center for Atmosphere and Oceanography Bengaluru.
  • आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जर्वेशनल साइंसेज, नैनीताल, उत्तराखण्ड/Aryabhatta Research Institute of Observational Sciences, Nainital, Uttarakhand
  • भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलुरु, Indian Institute of Science, Bangalore,
  • भारतीय उष्णकटिबन्धीय मेटियोरोलॉजी संस्थान, पुणे, महाराष्ट्र/Indian Institute of Tropical Meteorology, Pune, Maharashtra
  • आन्ध्र यूनिवर्सिटी, विशाखापत्तनम/ Andhra University, Visakhapatnam
  • कोचिन यूनिवर्सिटी,कोच्ची/Cochin University, Kochi
  • पंजाब यूनिवर्सिटी,पटियाला/ Panjab University, Patiala
  • मणिपुर यूनिवर्सिटी,इम्फाल/Manipur University, Imphal
  • देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी,इंदौर/Devi Ahilya University, Indore

Types of Job Roles Meteorologist

मेटियोरोलॉजी (Meteorologist kaise bane) में आप कई करियर प्रोफाइल मिलते है। जिसमें आप की रुचि है उस जॉब प्रोफाइल को अपना सकते है और उसमें आगे बढ़ सकते है।  यहां पर कुछ जॉब प्रोफाइल ऐसे बता रहें जिन्हें मेटियोरोलॉजिस्ट आवश्यक कौशल प्राप्त करने के बाद अपना सकते हैं।

  • औद्योगिक मौसम विज्ञानी /Industrial Meteorologist : इंडस्ट्रियल मेटियोरोलॉजिस्ट (Meteorologist kaise bane) की प्रमुख जिम्मेदारी इंडस्ट्रियल पोलूशन और इमिएशन से जुड़ी समस्याओं का स्टडी और समाधान करना है।
  • भौतिक मौसम विज्ञानी / Physical Meteorologist: फिजीकल मेटियोरोलॉजिस्ट   (Meteorologist kaise bane) की प्रमुख जिम्मेदारी वातावरण की भौतिक प्रकृति, इसकी रासायनिक संरचना और ऑप्टिकल, ध्वनिक और विद्युत गुणों का अध्ययन करना है। वे पर्यावरणीय समस्याओं का भी अध्ययन करते हैं और उसी के समाधान का पता लगाते हैं।
  • अनुसंधान मौसम विज्ञानी / Research Meteorologists: रिसर्च मेटियोरोलॉजिस्ट  (Meteorologist kaise bane)  क्लाईमेंट और वेदर के पैटर्न का स्टडी करते हैं। वे वर्षा, आर्द्रता, हवा, तापमान (Rainfall, Humidity, wind, temperature ) आदि से संबंधित आंकड़ों का विश्लेषण और व्याख्या करते हैं। वे ग्रीनहाउस प्रभाव जैसी घटनाओं का भी स्टडी करते हैं।
  • प्रोफेसर या लेक्चरर / Professor or Lecturer: अगर कैडिडेंट की रुचि टीचिंग में है तो  यूजीसी नेट क्वालिफाई करने के बाद, योग्य कैडिडेंट उन कॉलेजों में मौसम विज्ञान में शिक्षण कार्य कर सकते हैं जो मेटियोरोलॉजी में एक कोर्स प्रदान करते हैं।

Branches of Meteorology

  • क्लाइमेटोलॉजी
  • साइनोटिक मेट्रोलॉजी
  • डायनामिक मेटियोरोलॉजी
  • फिजिकल मेटियोरोलॉजी
  • एग्रीकल्चर मेट्रोलॉजी
  • अप्लाइड मेटियोरोलॉजी
  • एविशन मेटियोरोलॉजी
  • हाइड्रो मेटियोरोलॉजी

नौकरी के अवसर / job opportunities

मेटियोरोलॉजी (Meteorologist kaise bane) से संबधित सफलापूर्वक कोर्स कर चुके कैडिंडेट के सामने करियर के एक नहीं बल्कि अनेकों अवसर आ जाते हैं क्योंकि यह इंडस्ट्री काफी व्यापक है जिसकी वजह से योग्य लोगों को नौकरी के लिए बिल्कुल भी समस्या नहीं होती है। कुछ वर्षों पहले  तक मौसम का अंदाजा लगाने की जरूरत केवल कृषि संबंधी कार्यों के लिए ही की जाती थे।

लेकिन हाल के वर्षों में देखा जाए तो इस फील्ड का दायरा लगातर बढ़ रहा है। देश दुनियां मे  ग्लोबल वार्मिंग की समस्या और टेक्नोलॉजी के बढ़ते के कारण इस्तेमाल के कारण ज्यादातर क्षेत्र मे बड़ी घटना से बचने के लिए मौसम विभाग से जुड़े हुए विशेषज्ञों की जरूरत होती है।

मेटियोरोलॉजी के क्षेत्र में आमतौर पर पूर्वानुमान, टीचिंग या रिसर्च जैसे क्षेत्रों में करियर बनाने के विषय में सोचा जा सकता है। मेटियोरोलॉजी से संबधित कोर्स कर चुके कैडिंडेट को कॉलेजों, यूनिवर्सिटीज, सरकारी एजेंसियों तथा प्राइवेट कम्पनियों द्वारा एक रिसर्चर के रूप में नियुक्त किया जाता है। एक मौसम विज्ञानी को सरकारी और प्राइवेट संस्थानों में काम करने के बहुत अवसर मिलते हैं ।

रेडियो और दूरदर्शन केन्द्र, उपग्रह अन्तरिक्ष अनुसन्धान केन्द्र, मौसम प्रसारण केन्द्र, सैन्य विभाग, पर्यावरण से जुड़ी एजेंसियाँ, रेडियो और दूरदर्शन केन्द्र, औद्योगिक मौसम अनुसन्धान संस्थाएँ, उपग्रह अन्तरिक्ष अनुसन्धान केन्द्र तथा विश्व मौसम केन्द्र को भी मौसम विज्ञानियों या जलवायु विज्ञानियों की जरुरत होती है और वे अच्छे पैकेज पर उन्हें नियुक्त करते हैं।

भारतीय मेटियोरोलॉजी विभाग के अतिरिक्त सभी समाचार चैनल तथा एजेंसियाँ भी प्रतिदिन मौसम पूर्वानुमान प्रसारित करती हैं। विश्व के सभी हवाई अड्डों पर भी एक मौसम विभाग कार्यालय होता है और वहां एक योग्य मेटियोरोलॉजिस्ट की जरुरत हमेशा रहती है। प्राइवेट आर्किटेक्ट फर्म्स,बिल्डिंग्स, ऑफिसेज, पूल्स और फ्लाईओवर्स आदि की डिजाइनिंग के समय एक कंसल्टेंट  के रूप में भी मौसम विज्ञानियों की सर्विस ली जाती हैं।

इसके साथ ही वे विभिन्न सरकारी इंस्टीट्यूट जैसे आर्यभट्ट ऑब्जर्वेशनल साइंस रिसर्च इंस्टीट्यूट, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसन्धान परिषद, भारतीय कृषि अनुसन्धान परिषद, भारतीय वायु सेना, राष्ट्रीय रिमोट सेंसिंग एजेंसी, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (इसरो) आदि में भी एक रिसर्चर तथा साइंटिस्ट के रूप में कार्य कर सकते हैं। इन क्षेत्रों में एक आकर्षक सैलरी के साथ-साथ संतुष्टि तथा आत्मसम्मान भी मिलता है।

Top Recruitment Agencies for Meteorologists

  • भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD)
  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO)
  • अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र
  • भारतीय वायु सेना
  • भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग
  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो)
  • कृषि  विभाग और  कृषि विश्वविद्यालय
  • विश्वविद्यालय और कॉलेज
  • रेडियो और दूरदर्शन केन्द्र
  • मौसम प्रसारण केंद्र
  • पर्यावरण से जुड़ी हुई एजेंसी
  • विश्व मौसम केंद्र
  • मौसम विभाग कार्यालय इत्यादि
  • प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड
  • मीडिया हाउस
  • नेशनल रिमोट सेंसिंग एजेंसी
  • मौसम विभाग
  • इंडियन स्पेस रिसर्च सेंटर इसरो
  • नासा

विदेश में मौसम विज्ञानी कैसे बनें / Become a Meteorologist Abroad ?

आप के मन में सवाल उठा होगा कि विदेश में मौसम विज्ञानी  (Meteorologist kaise bane) बन सकते है। इसका जबाब हां, विदेश में Meteorologist बनने की प्रक्रिया वैसी ही है जैसे भारत में आपको अपने कैटारगी के अनुसार जॉब्स को रोल के लिए अप्लाई करना होता है।

विदेश में मौसम विज्ञानी बनने की योग्यता या Eligibility की बात करें  मान्यता प्राप्त कॉलेज से बीएससी या बीटेक और टी ओ ई एफ एल TOEFL या आई ई एल टी एस IELTS (जो भी लागू हो) जैसी लेंग्वेज प्रोफेन्सी में टेस्ट पास करना होगा चाहिए। इसके साथ ही आपको अंग्रेजी या उस देश की मूल भाषा बोलना आना चाहिए। खास बात यह है कि  अगर आप विदेश में स्टडी करते है और वहां पर जॉब के लिए अप्लाई करते हैं तो  भारत के मुकाबले विदेश में अच्छी सेलरी मिलती है।

Meteorology Salary

मेटियोरोलॉजी (Meteorologist kaise bane) साइन्स का ऐसा फील्ड यहां बहुत कम लोग हैं जो इस कोर्स को चुनते हैं। हालांकि करियर चुनौतीपूर्ण और फायदेमंद है। एक मौसम विज्ञानी/वैज्ञानिक का वेतन उसकी योग्यता और अनुभव पर निर्भर करता है। भारत सरकार योग्य मौसम विज्ञानियों/वैज्ञानिकों को आकर्षक वेतन प्रदान करती है।

मेटियोरोलॉजिस्ट  (Meteorologist kaise bane) में जाने के बाद कैंडिडेट को शुरुआत में ही हर महीने तकरीबन 40,000 से लेकर 50,000 हजार रुपए तक का सैलरी पैकेज मिल जाता है और जैसे-जैस कैंडिडेट  इस क्षेत्र में अनुभव हासिल कर लेता है, वैसे ही  उसके सैलरी में बढ़ोत्तरी होने लगती है और इस तरह से हर महीने से 60,000 हजार या फिर इससे ज्यादा का सैलरी मिल सकती है।

 

One Reply to “Meteorologist Kaise bane : Career as a Meteorologist/ How to become Meteorologist?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *