Medical Record Science me career: Best Career in healthcare field

Medical Record Science me career

Medical Record Science me career: मेडिकल क्षेत्र में रेकॉर्ड की देख रेख रख रखाव आदि काम में इच्छा रखने वाले कैडिडेट के लिए इस लेख में जानकारी दी गई है। Medical Record Science me career बनाने के लिए कोर्स, कोर्स कराने वाले कॉलेज, जरूरी स्किल्स, सैलरी के बारे में….

Medical Record Science me career

Medical Record Science me career: क्या आप को रेकॉर्ड की देखरेख करना अच्छा लगता है, जैसे कि नाम और जन्मतिथि, मेडिकल टेस्ट, इलाज, दवा और स्वास्थ्य के बारे में तो आप के लिए मेडिकल रेकॉर्ड में करियर बनाना अच्छा साबित हो सकता है। दोस्तों मेडिकल क्षेत्र में ऐसे कई करियर ऑप्सन है जो विना डॉक्टर बने इनमें करियर बनाया जा सकता है, जिसमें से एक है। Medical Record Science me career इस करियर के बारे में आज के इस लेख में बता रहे है।

What is Medical Record Science

Medical Record Science me career करियर ऑप्सन किसी मरीज के मेडिकल रेकॉर्ड से जुड़ा है। इसमें मरीज की जरुरी जानकारी जैसे नाम और जन्मतिथि, मेडिकल टेस्ट, इलाज, दवा और आपके स्वास्थ्य के बारे में डॉक्टर द्वारा की गई टिप्पणी का रेकॉर्ड होता है। बता दें कि इसमें सिर्फ इन्सान के शारीरिक स्वास्थ्य का ही नहीं बल्कि मानसिक स्वास्थ्य का भी रेकॉर्ड रखा जाता है।

 

Also Read:How to become an Ophthalmic Technician

इसमें मरीज के रेकॉर्ड की जानकारी को रखा जाता है, और जरुरत पड़ने पर उसको प्रयोग में लाई जाती है जैसे कि मरीज कब कैसे दुवारा इलाज के कराना है उसका पिछली मेडिकल टेस्ट, गंभीर बिमारयों का चेकअप, ट्रीटमेट में क्या दवाई दी गई, और इससे संबधित जानकारी है, अगर दुवारा भर्ती बीमार होता तो इससे पहले क्या ट्रीटमेट चल रहा था।

 

दोस्तों यह सब इसलिए जरुरी होता है कि डॉक्टर को इन्सान के पिछले रेकॉर्ड से ही उसके ट्रीटमेट करने में आसानी होती है जिससे बिमारियों का पता चलता है। कभी- कभी ये गलत ट्रीटमेट में इन्सान का रेकॉर्ड की जानकारी डॉक्टरों के लिए बहुत ही सहायक हो जाती है।

Also Read:Sports Medicine me career kaise banaye: Best careers option in 2020

Work profile

स्वास्थ्य संबंधित अच्छे इन्फर्मेशन सिस्टम के रखरखाव के लिए मरीज के रेकॉर्ड, उससे संबंधित डेटा को केलेक्ट करना, सांख्यिकीय तकनीक का इस्तेमाल कर उसका एनालाइज करना, मेडिको लीगल पहलू को समझना और स्वास्थ्य संबंधित संवैधानिक कानूनों की समझ होनी जरूरी है। दोस्तों आप को बता दें कि मेडिकल रेकॉर्ड्स टेक्नॉलजी या हेल्थ इन्फर्मेशन टेक्नॉलजी इन चीजों से संबंधित है।

Job placement institutes

हर युवा को आशा होती है कि उसे अच्छे संस्थान में जॉब मिले। Medical Record Science me career की फील्ड में कई रोल्स में जॉब ऑफर की जाती है जैसे मेडिकल रेकॉर्ड टेक्निशन, मेडिकल रेकॉर्ड एग्जिक्युटिव,हेल्थ इन्फर्मेशन टेक्निशन, मेडिकल रीसिप्शनिस्ट, मेडिकल कोडर,बिलिंग एंड कोडिंग टेक्निशन, लैबरेटरी इक्विपमेंट टेक्निशन,मेडिकल ऑफिस मैनेजर। यह सभी रोल्स कही ना कही किसी व्यक्ति का मेडिकल रेकॉर्ड से संबंधित है। इसके अलावा कुछ लोगों का काम किसी व्यक्ति के मेडिकल रेकॉर्ड को कोडिंग की भाषा में बदलना है।

How to make a career in Medical Record Science

आप Medical Record Science me career मेडिकल रेकॉर्ड साइंस के क्षेत्र में करियर बनेने के लिए बैचलर डिग्री या पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा कर सकते हैं। जिसमें बैचलर डिग्री 3 साल की होगा जिसमें प्रवेश के लिए 12वीं फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स/बायॉलजी के साथ पास होना जरूरी है। बता दें कि कुछ संस्थान और कॉलेज प्रवेश के लिए परीक्षा को आयोजित करते हैं। फीस के मामले में कोर्स की फीस संस्थान के मुताबिक अलग-अलग होती है। वैसे एक औसत फीस 20,000 रुपये से लेकर 1.50 लाख रुपये तक होती है।

Also Read:Best Course in Medical Field After 12th

इसके अलावा पोस्टग्रैजुएट डिप्लोमा प्रोग्राम को पूरा करने की न्यूनतम अवधि 1 साल होती है और अधिकतम अवधि 2 साल होती है। ऐसे युवा जो भारत या विदेश में हेल्थकेयर या लाइफ साइंस इंडस्ट्री में काम कर रहे वे लोग यह शॉर्ट टर्म प्रोग्राम कर सकते हैं। वही लाइफ साइंस के ग्रैजुएट या साइंस में एमएससी करने वाले और जीव विज्ञान से ग्रैजुएशन कर रहे या करने वाले कैंडिडेट्स भी यह कोर्स कर सकते हैं।

Colleges offering courses in medical record science

* एसआरएम यूनिवर्सिटी, चेन्नई
* क्रिस्चन इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ साइंसेज एंड रिसर्च, नगालैंड
* जवाहरलाल इंस्टिट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रैजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, पुडुचेरी
* एलुरु अपोलो इंस्टिट्यूट ऑफ हॉस्पिटल मैनेजमेंट एंड अलाइड साइंस, चेन्नई
* डॉ.एमजीआर मेडिकल यूनिवर्सिटी, चेन्नई
* जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी, दिल्ली

Also Read:How to become an Ophthalmic Technician

Essential skills

इस क्षेत्र में करियर की संभावनाओं को देखते हुए कुछ जरूरी स्किल्स या कौशल होना भी बहुत ही जरुरी है जैसे कि स्वास्थ्य और सुरक्षा की प्रक्रियाओं से अवगत होना
communication skills, confidence,सतर्क और सजग, discipline अनुशासन

यहां पर मिल सकती है जॉब

* हेल्थ केयर सेंटर्स और क्लिनिक्स
* गवर्नमेंट हॉस्पिटल्स
* नर्सिंग होम
* मेडिकल राइटिंग डॉक्टर ऑफिस
* मेडिकल कॉलेज/यूनिवर्सिटी
* डायग्नोस्टिक सेंटर
* मेडिकल इंश्योरेंस सेंटर
* आउटपेशेंट केयर सेंटर्स मल्टि फैकल्टी हॉस्पिटल्स
* आउटपेशेंट केयर सेंटर्स मल्टि फैकल्टी हॉस्पिटल्स

सैलरी

इस फील्ड में सैलरी योग्यता, अनुभव और एरिया के मुताबिक सैलरी मिलती है। शुरुआती सैलरी 10 हजार रुपये से लेकर अनुभव होने पर 40 हजार रुपये मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *