How to make career in glass designing

How to make career in glass designing

How to make career in glass designing: क्या आप अपने क्रिएटिविटी को लेकर गंभीर है, अपनी क्रिएटिविटी को एक नया रंग देना चाहते है। तो आप को ग्लास डिजाइनिंग (Glass Designing ) में करियर बनाना अच्छा साबित हो सकता है । ग्लास डिजाइनिंग का करियर परम्परागत करियर से थोड़ा हट के है, इसमें आप अपने क्रिएटिविटी एक अच्छा करियर बिल्ड कर सकते है। आज के समय में इस क्षेत्र में करियर की संभावनाए भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में भी इसकी मांग रहती है।

How to make career in glass designing

आधुनिक दौर में लोगों को अपने घरो व ऑफिस में डिजाइनिंग ग्लास पॉपुलर है। जिसके चलते ग्लास का करियर बेहतर संभावनाओं से भरा है। बढ़ती मांग देखते हुए आप के लिए करियर के द्वार खोल दिये है। अगर आप में जज्बा है अपनी क्रिएटिविटी को लेकर परम्परागत करियर से हट कर इसमें करियर बना सकते है।

Also Read:How to Become a Translator/Interpreter

what is a career Designing

रॉ ग्लास को गिफ्टवेयर, स्टेमवेयर, कर्फेटड ग्लास, विंडोज अनिर्ष्ट आइटम, ग्लास इस्टूमेंट, आदि के रूप मैं मोल्ड करने के लिये के प्रक्रिया को ग्लास डिजाइनिंग कहलाता है । इस काम को करने वाले प्रोफेसनल को ग्लास डिज़ाइनर गॉफर या ल्वॉयर कहलाते है ।

course and eligibility

ग्लास डिजाइनिंग में करियर बनने के लिए 12बीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री के साथ पास होना चाहिए। इसके बाद सिरेमिक एंड ग्लास डिजाइनिंग में बेचलर ऑफ़ डिजाइनिंग का कोर्स कर सकते है इसके बाद अगर आप मास्टर करना चाहते है, तो  मास्टर ऑफ़ डिजाइनिंग का कोर्स कर सकते है । इसके आलावा उच्च कोर्स भी कर सकते है मास्टर करने के बाद पीएचडी भी कर सकते है  ।

Work Profile

ग्लास कोर्सेस में ग्लास टेक्नोलॉजी को पढ़ाया जाता है ।  इसमे आप बेहतर ढंग से मॉडल ग्लास को डिजाइन की टेक्निक सिखायी जाती है । सबसे पहले ग्लास डिजाइनर स्टूडियो मैं कंप्यूटर पर डिजाइन करते है लम्बाई व उसका थीम तैयार करते है फिर उसके बात मशीनों की मदद से ग्लास पर डिजाइन बनाई जाती है ।

Also Read:How to become a data scientist

इस प्रकार से अलग – अलग उद्देश्य के लिये क्लियर फोस्डेड लिनेन मिल्की स्पॉक्ड लेमिनेटड और कॉम्बिनेशन ग्लासेस को तैयार किया जाता है ।

Skills

अगर आप इस फील्ड में करियर बनाना चाहते है तो क्रिएटिविटी स्किल के साथ डिजाइन का टेलेंट भी होना चाहिए अलग – अलग थीम पर डिजाइन करने की क्षमता होनी चाहिये नई टेक्नोलॉजी के बारे जानकारी के साथ – साथ बेहतर कम्युनिकेशन स्किल इमैनेटिव व टीम भावना के स्किल होना चाहिए ।

Career Scope

एक बेहतर भविष्य की आशा हम सब करते है। कोर्स करने के बाद राष्टीय  व अंतरराष्टीय स्तर चल स्टूडियो में इंटरशिप पर काम कर सकते है।  इन स्टूडियो मैं जॉब की बेहतर सम्भावना हमेशा बनी रहती है और ये स्टूडियो प्रतिभाशील डिजाइनर को हायर करते रहते है। अंतरराष्टीय स्तर पर काम कर रही कंपनियों भी नए व स्किल्ड डिजाइनर को हायर करती रहती है ।

 University

नेशनल इंस्टीटूट ऑफ़ डिजाइन, अहमदाबाद
आई  आई टी बनारस हिन्दू विश्वबिद्यालय, वाराणसी
विश्व भारती विश्वबिद्यालय, शांतिनिकेतन
एपीजे  इंस्टीटूट ऑफ़ डिजाइन, दिल्ली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *