how to become a revenue officer

how to become a revenue officer

How to become a revenue officer Full details: क्या आप को टैक्स से जुड़ी जानकारी देखना, पढ़ना, संभालना अच्छा लगता है? तो आप रेवेन्यू ऑफिसर (Revenue Officer) करियर के बारे में सोच सकते हैं। How to Become Revenue Officer एक सरकारी जॉब करियर ऑप्सन है। जिसके लिए आप को यूपीएससी की परीक्षा से गुजरना पड़ता है। इसके बाद में कहीं पर आप को नियुक्ति मिलती है।

How to Become Revenue Officer

हर छात्र की इच्छा होती है कि वह सरकारी विभाग में जॉब कर सके। और इसके साथ ही सैलरी भी अच्छी मिले। आज के प्रतिस्पर्धा के दौर में हर कोई आगे निकलना चाहता है। करियर का चुनाव करते समय छात्रों को बहुत सारे पहलुओं को ध्यान में ऱखना होता है। जिसमें से एक है कि आप को किस क्षेत्र में करियर बनाने की रुचि है।

अगर आप भारतीय सिविल सेवा के अन्तर्गत राजस्व सेवा में करियर बनाना चाहते हैं, तो सबसे पहले आप को यूपीएससी के द्वारा आयोजित परीक्षा में शामिल होना पड़ेगा। इस लेख में इस करियर के बारे में बता रहे हैं कि रेवेन्यू ऑफिसर क्या है, करियर बनाने के लिए योग्यता, आयोजित होने वाली परीक्षा, सैलरी की जानकारी, जरुरी स्किल, अकाउंटिंग कोर्स की जानकारी आदि।

What is revenue Officer

भारतीय सिविल सेवा (Indian Civil Service)के अन्तर्गत राजस्व सेवा (Revenue Servics) भी आती है। इसका मुख्य उद्देश्य अलग-अलग डायरेक्ट टैक्स (Direct Tax) जमा कर केन्द्र सरकार को उपलब्ध कराना है। हर जिले में रेवेन्यू ऑफिसर (Revenue Officer)  की नियुक्ति की जाती है।

एक रेवेन्यू ऑफिसर (Revenue Officer) सरकार या सरकार द्वारा चिह्नित किसी थर्ड पार्टी एजेंसी के लिए टैक्स और शुल्क जमा करने का काम करता है।रेवेन्यू ऑफिसर का मुख्य कार्य जिलें में टैक्स कोड का पालन करवाना, और बकाया शुल्कों की वसूली करना है।

बता दें कि संगठन या संस्थान में इनकम और खर्च के बीच सतुंलन बनाने और राजस्व से जुडें सभी कार्यों को निपटाने में रेवेन्यू ऑफिसर का काम महत्वपूर्ण होता है। रेवेन्यू ऑफिसर बनने के लिए टैक्स कलेक्शन से संबधित कार्यों, नियमों और पॉलिसी की अच्छी समझ होनी चाहिए, और इसके साथ ही बेहतर कम्युनिकेशन स्किल भी होनी चाहिए।

रेवेन्यू ऑफिसर बनने के लिए योग्यता-

हर साल सिविल सेवा की परीक्षा यूपीएससी के माध्यम से आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में भाग लेने के लिए कैंडिडेट को किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से सेकंड डिविजन में ग्रेजुएट होना जरुरी है। कैंडिडेट ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स के आखिरी साल में प्रारभिंक परीक्षा में शामिल हो सकते है।

इसके साथ ही कैडिंडेट्ड के पास कंप्यूटर कोर्स (पीजीडीसीए, डीसीए), अग्रेजी या हिंदी टाइपिंग, मार्डन ऑफिस मैनेजमेंट, कंप्यूटर सांइस या कंप्यूटर एप्लिकेशन और इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी से संबधित कोर्स की डिग्री होनी चाहिए।

आयु सीमा-

परीक्षा में शामिल होने वाले साल में 1 अगस्त को कैंडिडेट की न्यूनतम उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए और उस तारीख पर अधिकतम उम्र 3 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए ओबीसी (OBC) के लिए 3 साल और अनुसूचित जनजाति के कैंडिडेट के लिए 5 साल की छूट का नियम है।

रेवेन्यू ऑफिसर परीक्षा प्रक्रिया-

रेवेन्यू ऑफिसर बनने के लिए चार चरणों में परीक्षा की तैयारी करनी पड़ती है। जिन्हें कैडिडेट्स को पास करना होता है। इन परीक्षाओं में कैडिडेट्स को परीक्षा मापदंडों पर खरा उतना पड़ता है। जिसमें पर्सनैलिटी और मानसिक क्षमता को लेकर भी परीक्षा होती है।

ये है परीक्षा के चार चरण-

1.पहले चरण में आवेदन करने के बाद कैडिडेट्स को मई या जून में आयोजित होने वाली पहले लिखित परीक्षा में शामिल होना पड़ेगा। इस परीक्षा में सामान्य ज्ञान के 200 अंक के सवाल और कॉम्प्रिहेंशन एंड लॉजिकल रीजनिंग के 200 अंक सवाल पूछे जाएंगे।

2.इस परीक्षा में वे कैंडिडेट ही शामिल हो पाएंगे जो पहली परीक्षा पास कर चुके हों। यह परीक्षा अक्टूबर में आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में एक भारतीय भाषा का पेपर होता है। जिसमें 300 अंकों के सवाल पूछे जाते हैं। इसके अलावा अंग्रेजी योग्यता 300 अंक के प्रशन पत्र, 200 अंक का एक सामान्य निबन्ध, 600 अंक का एक सामान्य अध्ययन पत्र और चार वैकल्पिक विषयों पर 1200 अंक के सवाल भी होते हैं।

3.परीक्षा का आखिरी चरण इंटरव्यू का होता है। इसमें इंटरव्यू के दौरान उनकी पर्सनैलिटी और मानसिक क्षमता का टेस्ट किया जाता है। इसके बाद सफल कैंडिडेट्स की अंतिम लिस्ट तैयार की जाती है। लिस्ट के अनुसार रैंक जारी की जाती है। अच्छी रैंक पाने वाले कैंडिडेट्स को चुना जाता है।

4.इसके बाद आईआरएस अधिकारी ट्रेनी को तीन महीने की बेसिक ट्रेनिंग दी जाती है।

जरुरी स्किल-

  •  रेवेन्यू ऑफिसर के काम को अच्छे तरीके से करने के लिए कैंडिडेटस के पास अकांउटिग, कलेक्शन और इंटरपर्सनल स्किल होनी चाहिए।
  •  रेवेन्यू ऑफिसर में खातों को ठीक से अरेंज ऱखने की स्किल होनी चाहिए।
  •  प्रयोग किए जानें वालें अकांउटिंग सॉफ्टवेयर को चलाना आना चहिए।
  •  टैक्स से संबधित समस्याओं का निराकरण करना आना चाहिए( जैसे की किसी संस्था या व्यक्ति की टैक्स की समस्या )

Revenue Officer Salary

रेवेन्यू ऑफिसर पद को छठवें वित्त आयोग के अनुसार सैलरी दी जाती है। हालांकि जिस विभाग में सातवें वित्त आयोग का वेतनमान लागू हो चुका है। वहां पर इस आयोग के द्वारा निर्धारित सैलरी मिलती है। इसके अलावा निर्धारित किए गए भत्ते भी दिए जाते है।

कहां से करें अकांउटिंग का कोर्स-

रेगुलर कोर्स-

ओरिएंटल यूनिवर्सिटी, इंदौर
www.oui.edu.in
उस्मानिया यूनिवर्सिटी हैदराबाद
www.osmania.ac.in
सेंट एल्बट्रर्स कॉलेज, एरनाकुलम
www.alberts.edu.in
सैकरे़ड हार्ट कॉलेज
www.shctpt.edu

ऑनलाइन कोर्स

उडेमी
www.udemy.com

कोर्सेरा
www.cousera.org

ईडीएक्स
www.Edx.org

अपग्रेड
www.upgrad.com

कहां करना पडेगा काम-

यूनिर्सिटी की पोस्ट केन्द्र सरकार के विभिन्न विभागों, पीएसयू, विभिन्न निगमों में होती है। इसके अलावा आज के समय में प्राइवेट कंपनियों में भी राजस्व अधिकारियों को काम मिल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *