Food Chemist kaise bane/How to be a Food Chemist? 

Food Chemist kaise bane:- मार्केट में तरह-तरह के फूड प्रोडक्ट उपलब्ध है।  इन फूड आइटम से तैयार होने से लेकर हमारे पास में आने तक कई प्रक्रिय से गुजरते है। क्या आपने  ऐसे प्रोफेशन के बारे में सोचा है जिसमें खाने संबधित फूड को कैसे तैयार करने से लेकर, प्रोसेसिंग, स्टोरेज, और डिस्ट्रीब्यूशन में सुधार करने जैसे आदि काम शामिल हो। तो चलिए आज के इस लेख में आप को फूड केमिस्ट कैसे बनें (Food Chemist kaise bane) करियर ऑप्सन पर जानकारी दे रहें है।

आज के इस लेख में फूड केमिस्ट कैसे बनें (Food Chemist kaise bane) के तहत आप को  Food Chemist kaise, education qualification,  Eligibility, Course, job Role, Salary आदि बारे में जानकारी दे रहें है।

Food Chemist kaise bane?

आज रात के खाने के लिए क्या है? यह हम सब ह्युमन के पास डेली रूटीन है। क्या खाना चाहिए यह पता लगाने में बहुत बड़ी मात्रा में दिमाग खपाना की होता है। आज फूड का साइन्स के साथ स्ट्रांग रिलेशन है। साइन्स का यूज करके खाद्य पदार्थों को संशोधित करने और यहां तक ​​कि पूरी तरह से नए बनाने के लिए किया जाता है।

ये पढ़ें:-Dogecoin cryptocurrency kya hai/What is Dogecoin cryptocurrency?

साइन्स का यूज फूड को प्रिजर्व करने, फूड के स्वाद में सुधार करने के अलावा कई काम किए जाते है। है। साइन्स की यूज या तो इसके यूजफुल क्वावलिटी को बढ़ाकर या इसके हार्मफुल तत्वों को कम करके हेल्दी फूड आइटम बनाने के लिए किया जाता है। लेकिन क्या आप को पता है कि फूड साइन्टिंस्ट ने भी किफायती और पौष्टिक खाद्य पदार्थ विकसित करके भूखमरी और कुपोषण के खिलाफ लड़ाई में योगदान दिया है।

Who is food chemist / food chemist कौन है?

एक खाद्य रसायनज्ञ वह होता है जो खाद्य पदार्थों की रासायनिक संरचना का एनवाइज और सुधार करता है। वे भोजन के प्रोसेसिंग, स्टोरेज, और डिस्ट्रीब्यूशन में सुधार, गंध और स्वाद पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वे खाद्य पदार्थों के स्वाद और न्युट्रिशियन क्ववालिटी में सुधार के लिए केमिकल रेशियों के साथ प्रयोग करते हैं।

आप ने देखा होगा कि  सुपरमार्केट अलमारियां और फ्रीजर फूड प्रोडक्ट से भरे हुए हैं। हमारे खाद्य उत्पाद भी दिशा-निर्देशों के साथ आते हैं कि उन्हें कैसे पकाया जाना चाहिए या उनका सेवन कब किया जाना चाहिए।

ये पढ़ें:-Statistician kaise bane/How to become statistician?

एक  फूड केमिस्ट के तौर पर काम कर रहे प्रोफेशनल को खाद्य पदार्थों को कैसे डेवलप, प्रोसेसिंग, पैकिंग, स्टोरेज और डिस्ट्रीब्यूशन किया जाता है जैसे काम को देखता है। एक फूड केमिस्ट जो यह सुनिश्चित करता है कि खाद्य पदार्थ खाद्य कानूनों और लेबलिंग आवश्यकताओं को पूरा करते हैं।

How to Become a Food Chemist?

इस फील्ड में जाने के लिए जरुरी है, संबधित विषयों में के साथ यूजी, पीजी, और पीएडी करें इसके साथ ही किसी भी संस्थान से इटंर्नशिप भी करें।  क्योंकि आपकी एजूकेशन की डिग्री जितनी अधिक होगी, आपके लिए रोजगार के उतने ही अधिक अवसर उपलब्ध होंगे।

अगर आप  खाद्य वैज्ञानिक के रूप में काम करना चाहता है तो खाद्य विज्ञान, रसायन विज्ञान, सूक्ष्म जीव विज्ञान, या संबंधित क्षेत्र जैसे क्षेत्र में स्नातक की डिग्री आवश्यक है। भारत में, स्नातक पाठ्यक्रम या तो तीन वर्षीय बी.एससी है। खाद्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी में या चार वर्षीय बी.टेक है।

हॉयर एजुकेशन के लिए जैसे कि खाद्य विज्ञान में मास्टर या पीएचडी, सरकारी प्रयोगशालाओं में खाद्य वैज्ञानिक पदों, बीआईएस और एफएसएसएआई जैसे प्राधिकरण, और सीएफटीआरआई, आईसीएआर जैसे विश्वविद्यालय अनुसंधान पदों के लिए आवश्यक हैं। और डीएफआरएल, दूसरों के बीच में।

 

Top Collage and university

भारत में कई कॉलेज फूड केमिस्ट्री साइन्स में विभिन्न स्तरों के कोर्स कराए जाते हैं। भारत के कुछ कॉलेज जो फूड साइन्स में कोर्स करात प्रदान करते हैं, वे हैं;

  • लोयोला कॉलेज, चेन्नई/Loyola College, Chennai
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बैंगलोर/Christ University, Bangalore
  • चंडीगढ़ विश्वविद्यालय, चंडीगढ़/Chandigarh University, Chandigarh
  • माउंट कार्मेल कॉलेज, बैंगलोर/Mount Carmel College, Bangalore
  • एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा/Amity University, Noida

यहां मिलेगा रोजगार

  •  नेस्ले, ब्रिटानिया, कैडबरी, पेप्सिको और अन्य जैसे सभी खाद्य निगमों में अनुसंधान और विकास विभाग हैं।
  • अनुसंधान वैज्ञानिकों के रूप में, सभी सरकारी विश्वविद्यालय आईसीएआर, सीएसआईआर और सीएफटीआरआई से संबद्ध हैं।
  • BIS, FSSAI, FFRC, DFRL, WHO, NIN, ICMR, और अन्य सरकारी नियामक निकाय
  • सार्वजनिक और निजी दोनों कॉलेजों में प्रोफेसर के रूप में, वे शिक्षण और अनुसंधान दोनों में शामिल हैं।
  • विदेशी विश्वविद्यालयों के साथ अनुसंधान परियोजनाओं पर सहयोग भी संभव है।

Leave a Comment