Cartographer kaise bane :- How to become Cartographer

Cartographer kaise bane:-  नमास्कार! स्वागत है आप का करियर पिडिया ब्लॉग पर, आज के इस लेख में आप को Career In Cartography के बारे  मे बात करेगें ऐसे कैडिडेंट जो Career In Cartography में अपनी राहें देख रहें है तो ये लेख उनके के लिए काफी हेल्पफुल साबित हो सकता है।

इस लेख में कार्टोग्राफी में करियर कैसे बनाए (Cartographer kaise bane) इस करियर ऑप्सन के तहत आप How to become Cartographer, What is Cartographer Career Option, How to become Cartographer, Education Qualification for Cartographer Course,Cartographer Course Details, Top Collage & University,Salary In Cartography आदि के बात करेगें।

Cartographer kaise bane

जब भी आप किसी नए शहर या फिर, अपने शहर की किसी अपरिचित जगह जाना चाहते हैं। नक्शा (मैप) देखकर उसके लोकेशन, दूरी आदि की जानकारी लेते हैं। आजकल, मैप्स को तैयार करने और इस्तेमाल करने के तरीकों में काफी बदलाव आये हैं। लेकिन अब जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने मोबाइल एप पर निर्भर करते हैं। यानि गूगल मैप्स का यूज करते है।

जरा सोचिए, यदि मैप्स न होता, तो कहीं भी आना-जाना कितना मुश्किल होता। आखिर कौन बनाता है यह मैप्स? क्या कहते हैं, इस कला को और इसे बनाने वाले उस कलाकार को?  इन्हीं सब सवालों के जबाब इस लेख में मिलने वाले है

कार्टोग्राफी मैप्स ( Cartography Maps) और उनसे संबधित हरेक चीज़ का स्टडी है। आजकल, मैप्स को तैयार करने और इस्तेमाल करने के तरीकों में काफी बदलाव आये हैं। पुराने जमाने में भौतिक और पेपर-बेस्ड मैप्स होते थे लेकिन आजकल सभी मैप्स, चाहे वे लोकल मैप्स हों या फिर ग्लोबल मैप्स, डिजिटल मैप्स होते हैं और हमारे मोबाइल ऐप्स पर उपलब्ध हैं।

मैप्स डिजिटल होने के साथ ही अब इस कोर्स द्वारा कार्टोग्राफर्स के लिए मैप तैयार करने का बिलकुल नया तरीका प्रस्तुत किया है। हालिया बदलावों को ध्यान में रखकर कार्टोग्राफी और मैप-मेकिंग के कोर्सेज में भी काफी बदलाव आया है।

What is a Cartography/कार्टोग्राफी क्या है?     

कार्टोग्राफी (Cartography) शब्द दो फ्रेंच शब्दों अर्थात ‘कार्टे’ और ‘ग्राफी’ से मिलकर बना है. ‘कार्टे’ शब्द का अर्थ ‘मैप’ या ‘एक कार्ड’ है और ‘ग्राफी’ शब्द ‘डिस्क्रिप्टिव साइंस’ का एक रूप है।

पृथ्वी के सतह के (cartographer kaise bane) किसी भाग के स्थिति को पैमाने की सहायता से कागज पर लघु रूप में बनाना मानचित्रण (कार्टोग्राफी) कहलाता है। कार्टोग्राफी मानचित्र बनाने और उसके इस्तेमाल करने की आर्ट और साइन्स है।  जो लोग तरह-तरह के नक्शे और चार्ट्स की रेखाचित्र बनाने में माहिर होते हैं, उन्हें ‘कार्टोग्राफर’ या ‘मैप मेकर’ कहते हैं।

कार्टोग्राफी का संबंध नक्शा या मानचित्र, ग्लोब्स आदि को बनाने की पढ़ाई से है। इसमें साइन्टिस्ट और कलात्मक तत्व शामिल हैं। मैप्स बनाने में इमेज प्रोसेसिंग, डाटा कैप्चर, डाटा मैनिपुलेशन, विजुअल डिस्प्ले आदि शामिल होता है। एक तरह से कहें, तो कार्टोग्राफर वह प्रोफेशनल होता है, जो कई तरह के मानचित्र बनाता है।

कार्टोग्राफी में वैज्ञानिक, तकनीकी और कलात्मक पहलू होते हैं, इसलिए एक कार्टोग्राफर को इन सबकी अच्छी जानकारी होनी चाहिए। आज डिजिटल युग में कार्टोग्राफी बहुत आसान हो गई है। पहले कार्टोग्राफी करने के लिए जगह-जगह जाकर सर्वे किया जाता था। फिर हाथ से मैप आदि बनाने पड़ते थे, लेकिन आज के डिजिटल युग में सेटेलाइट की मदद से कार्टोग्राफी का काम करना आसान हो गया है।

उदाहरण के लिए, आप गूगल मैप को ले सकते हैं।  इन मैप्स का प्रयोग विभिन्न सरकारी विभागों, सुरक्षा संबंधी विभागों, नए शहर बसाने, नेवीगेशन, मौसम की रिपोर्ट्स, नई सड़कें एवं रेल लाइन बिछाने आदि जगहों पर उपयोग होता है।

 How to become Cartographer

देश में कई शिक्षण संस्थान  (cartographer kaise bane) कार्टोग्राफी या इससे संबंधित क्षेत्र में ग्रेजूएट डिग्री, मास्टर डिग्री से लेकर डिप्लोमा कोर्स का संचालन करते हैं। इन कोर्सों को कैडिडेंट 12वीं के बाद कर सकते है। भारत में कार्टोग्राफी के विभिन्न कोर्सेज उपलब्ध हैं। इन कोर्सेज हेतु  योग्यता संबंधी शर्ते, प्रत्येक कोर्स की आवश्यकता के अनुसार अलग-अलग हैं।

Education Qualification for Cartographer Course

एक कैडिडेंट को (cartographer kaise bane) भारत के किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से न्यूनतम 60 प्रतिशत के साथ अनिवार्य विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित के साथ अपना 10 + 2 सफलतापूर्वक पूरा करना आवश्यक है। राष्ट्रीय और राज्य स्तर के विश्वविद्यालयों में प्रवेश पाने के लिए, एक कैडिडेंट को न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक प्राप्त करने होंगे।

12 वीं पूरा करने के बाद, एक कैडिडेंट को देश भर में किसी भी स्नातक कार्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए प्रवेश परीक्षा देनी होती है। देश भर में विभिन्न संस्थान हैं जो योग्य कैडिडेंटको विभिन्न विषयों में इंजीनियरिंग / प्रौद्योगिकी स्नातक में प्रवेश प्रदान करते हैं।

ये भी पढ़ें-

Nuclear Physicist Kaise Bane : Career in Nuclear Physics, become a Nuclear Physicist?

Machine Learning Engineer kaise bane / मशीन लर्निंग इंजीनियर कैसे बनें? 

Career in food technology: फूड टेक्नोलॉजी में कैसे बनाए करियर?

Lexicographer Kaise Bane; How to become Lexicographer?

अधिकांश विश्वविद्यालय कैडिडेंट (cartographer kaise bane) की जांच और मूल्यांकन करने के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित कराते है। बी.ई./बी.टेक जैसे कोर्स करने के लिए जेईई मेन और जेईई एडवांस देश की सबसे प्रमुख परीक्षाओं में बैठ सकते है जो आईआईटी, एनआईटी और आईआईआईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश प्रदान करती है। इसके अलावा और प्रवेश परीक्षाएँ हैं जैसे- BITSAT, VITEEE , SAT, NATA आदि है।

इसके अलावा पोस्टग्रेजुएट (cartographer kaise bane) कोर्स करने के लिए, उम्मीदवारों को प्रवेश परीक्षा GATE (इंजीनियरिंग में सामान्य योग्यता परीक्षा) देनी होती है।गेट एक प्रवेश परीक्षा है जो विभिन्न राष्ट्रीय और राज्य-स्तरीय विश्वविद्यालयों में विभिन्न विषयों में कई स्नातकोत्तर कार्यक्रमों में प्रवेश देने के लिए आईआईटी द्वारा आयोजित की जाती है।

Cartographer Course Details

Certification Course-

  •  Certificate Course in Cartography- यह कार्टोग्राफी में सर्टिफिकेट कोर्स है। इस कोर्स की अवधि 3 महीने या 1 साल तक होती है। इस कोर्स में आवेदन करने के लिए उम्मीदवार का 12वीं पास होना जरूरी है।

Diploma Course-

  •  इनफॉरमैटिक्स में डिप्लोमा /Diploma in Informatics में एडमिशन लेने के लिए कैडिंडेट को 10 + 2 पास होना चाहिए। ये कोर्स दो से तीन साल का  है।

Graduate Course-

  • बी.ई. जियोइन्फॉर्मेटिक्सय/ B.E. Geoinformatics- ये चार साल का कोर्स है और यह उन छात्रों के लिए है जिन्होंने अपनी 10+2 परीक्षा उत्तीर्ण की है।
  • B.Tech in Geoinformatics – 10+2 परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवार भी कार्टोग्राफी के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए इस चार वर्षीय पाठ्यक्रम का विकल्प चुन सकते हैं.।
  • B.Sc in Geography –  बारहवीं करने के बाद भूगोल में तीन वर्षीय स्नातक की डिग्री हासिल की जा सकती है।
  • B.A. in Geography – उम्मीदवार 12 वीं कक्षा के बाद प्रमुख विषयों के रूप में भूगोल के साथ कला में स्नातक भी कर सकते हैं।

MASTERS COURSES

  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन जियोग्राफिकल कार्टोग्राफी/Post Graduate Diploma in Geographical Cartography
  • जियोग्राफिकल कार्टोग्राफी/M.A. Geography
  • एमई भू सूचना साइन्स.M.E. Geoinformatics
  • एमएससी भूगोल/M.Sc. Geography
  • एमएससी भूसूचना/M.Sc. Geoinformatics
  • एम.टेक. रिमोट सेंसिंग और भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस)/M.Tech. Remote Sensing and Geographical Information System (GIS)

Top Collage & University

  • Indian Institute of Technology, Bombay Mumbai
  • Jawaharlal Nehru Technological University Hyderabad
  • Indian Institute of Surveying and Mapping Hyderabad
  • Mahatma Jyoti Rao Phoole University Jaipur
  • Osmania University Hyderabad
  • Utkal University Bhubaneswar
  • Annamalai University Chennai
  • Jamia Millia Islamia New Delhi
  • University of Madras Chennai
  • North Orissa University Odisha
  • Sam Higginbotom Institute of Agriculture Technology & Sciences Allahabad
  • Maharaja Sayajirao University of Baroda Gujarat
  • Maulana Azad National Institute of Technology Bhopal

Salary In Cartography

इस फील्ड में शुरुआत में (cartographer kaise bane) आपको 15 से 20 हजार रुपये आसानी से मिल जाते हैं। अगर आपने किसी अच्छे संस्थान से Cartography Course किया है तो आप काफी आकर्षक सैलरी ऑफर हो सकती है। जैसे- जैसे आपका एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है, आपकी सैलरी भी बढ़ती जाती है। तो तब  हर महीने 50,000 या फिर उससे भी ज्यादा का सैलरी पैकेज मिल जाता है।

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल, सुझाव या इस लेख में कोई त्रुटि रह गई है तो हमे कॉमेंट और Email कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page, Instragram और  Telegram channel पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!