career in Toxicologist: Education qualification, career scope, salary, & more

career in Toxicologist Education qualification, career scope, salary, & more

career in Toxicologist. इस लेख में आप को ऐसे करियर ऑप्सन के बारे में बताने जा रहे है जो आप को जरुर पंसद आने वाला है इस लेख में आप को career in Toxicologist में चर्चा करने जा रहे है जैसा कि नाम से प्रतीत हो रहा है कि मानव, जानवरों, हमारे आसपास के जहरीली चीजों की वजह से होने वालों नुकसानों के प्रभाव स्टडी की जाती है। यह करियर फील्ड आप के आस पास में होने वाले प्रभाव के स्टडी करने का मौका देता है। इस लेख में आप को career in Toxicologist के तहत आप को career in Toxicologist में, What is Toxicologist, How to become a Toxicologist, Education Qualification,   types of Toxicologist, work profile,  career scope in Toxicologist, main institute and university for Toxicologist course, salary in Toxicologist,  के बारे में जानकारी दे रहे है उम्मीद करते है की ये पोस्ट आप को जरुर पंसद आने वाली है।

Career in Toxicologist

मेडिकल फील्ड के अंतगर्त टॉक्सीकोलॉजी, टॉक्सीकोलॉजी की वो ब्रांच है जिसे फिजिशियन द्वारा ऑपरेट किया जाता है। मेडिकल टॉक्सीकोलॉजी का फोकस डायग्नोसिस, मेडिकेशन, पर्यावरण के जहरीले टॉक्सीन की रोकथाम और मैनेजमेंट पर होता है। टॉक्सीकोलॉजी में मनुष्य, पशु, पौधों और पर्यावरण पर जहरीली चीजों की वजह से होने वालों नुकसानों के प्रभाव का स्टडी करते है। इनका काम केमिकल, नुकसानदायक गैसों के इफेक्ट की स्टडी करना है। जहरीले पदार्थों और रेडिएशन का लोगों पर क्या प्रभाव पड़ रहा है इसका निरीक्षण टॉक्सीकॉलॉजिस्ट ही करते हैं।

What is Toxicology

हमारे परिवेश में तरह -तरह के चीजें है। कुछ खाने योग्य है लेकिन कुछ चीजों के बिना जांच परख के खाने से ऩुकसानदेय हो सकता है। Toxicology साइन्स की वह शाखा है। जिसमें केमिकल, पदार्थों या स्थितियों के हानिकारक प्रभावों को समझने में मदद करता है, जो लोगों, जानवरों और पर्यावरण पर हो सकते हैं। Toxicologist को “सुरक्षा का विज्ञान” के रूप में माना जाता है। इसके पीछे का कारण है कि यह फील्ड का रूप में यह एक साइन्स से विकसित हुआ है जो सेफ्टी का स्टडी करने के लिए समर्पित विज्ञान के लिए जहर और रासायनिक जोखिमों के प्रतिकूल प्रभावों पर अध्ययन करता है। toxicology के अंतगर्त  ऐसी भविष्यवाणी के लिए किया जाता है जो क्या और कैसे रसायन नुकसान पहुंचा सकते हैं और फिर सार्वजनिक स्वास्थ्य की रक्षा के लिए उस जानकारी को साझा करते हैं। अथार्त यह कहा जा सकता है कि जीवों के उपर रसायनों के प्रतिकूल प्रभावों के अध्ययन से सम्बन्धित विधा को विषविज्ञान (Toxicology) कहते हैं। इसमें विषाक्तता के लक्षणों, प्रक्रिया (मेकेनिज्म), चिकित्सा, एवं जाँच आदि का अध्ययन किया जाता है।

How to become a Toxicologist

उम्मीद है कि toxicology क्या है इसके बारे में आप को जरुर पता चल गया होगा। अब आप को बताते है कि इस फील्ड में जाने के लिए आप क्या करना पडेगा। जिससे अगर आप इस फील्ड में करियर बनाने का सपना देख रहे हो तो आप को जानकारी मिल सके। इस फील्ड में जाने के लिए के लिए सबसे पहले आप को 12वीं में साइन्स के विषयों के साथ में पास करना होगा।

EDUCATIONAL QUALIFICATION

Toxicology क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए सबसे पहले उम्मीदवार को किसी मान्यताप्राप्त विद्यालय से 12 वीं कक्षा में साइंस स्ट्रीम से पास होना अनिवार्य है। इसके बाद उम्मीदवार वनस्पति विज्ञान (Botany), रसायन विज्ञान (chemistry), प्राणी शास्त्र (Zoology), जैव रसायन (Biochemistry), दवा (Medicine), पशु चिकित्सा विज्ञान (Veterinary Science), फार्मेसी (Pharmacy), जैव रसायन (Biochemistry), जैव प्रौद्योगिकी, सूक्ष्म जीव विज्ञान (Microbiology), पर्यावरण जीव विज्ञान (Environmental Biology) या कुछ अन्य जीवन विज्ञान आधारित अनुशासन में से किसी एक पर ग्रेजुएशन कर सकते है। अगर अपने करियर में नई उंचाइयों पर जाना चाहते है तो इस फील्ड में आप पीएच़डी भी कर सकते है । जो आप के करियर में ग्रोथ के द्वार खोल देता है।

Course for Toxicologist

Graduate course

  • B.Sc Toxicology
  • B.Sc Biochemistry

Post Graduate course

  • M.Sc in toxicology

Entrance Examination

कोर्स करने के लिए सबसे जरुरी बात है कि इसके लिए आप के Entrance Examination देने पड़ेगा। यह पर जानकारी के लिए यहां पर नीचे दिए गए जो देश के विवि के द्वारा आयोजित किए जाते है ।

  • All India Postgraduate Medical Entrance Examination AIPMT
  • Combined Biotechnology Entrance Examination
  • Delhi University Medical Entrance Test (DUMET)
  • National Institute of Mental Health and Neuro Sciences Entrance Exam
  • National Institute of Pharmaceutical Education and Research Joint Entrance Examination – NIPER JEE
  • Punjab Medical Entrance Test
  • Rajiv Gandhi University of Health Sciences Post Graduate Entrance Test.

Types of toxicology

विश्लेषणात्मक टेक्सोलॉजिस्ट (Analytical toxicology ): इसमें यह जैविक और अन्य नमूनों में विदेशी यौगिकों (xenobiotics) का पता लगाने, पहचान और माप जैसे काम को किया जाता है। विश्लेषणात्मक टेक्सोलॉजिस्ट मैनेजमेंट   रोग का निदान, और विषाक्तता की रोकथाम में सहायता कर सकता है। विश्लेषणात्मक टेक्सोलॉजिस्ट के तहत कई अलग-अलग तकनीकों का उपयोग करके वे जटिल रोगी नमूनों का विश्लेषण किया जाता है जिसमें शरीर के तरल पदार्थ भी शामिल होते है। वे जांच और उनके परिणामों के नैदानिक ​​और चिकित्सीय उपयोग का मूल्यांकन करते हैं। वे नए परीक्षण लागू करते हैं या नई दवाओं या अन्य पदार्थों को जोड़ने की अनुमति देने के लिए मौजूदा परीक्षणों को बदलते हैं।

यह भी पढ़े-Career in Biomedical Engineering: Biomedical Engineer Kaise bane/ course, career scope, salary and more

Career In Genetic Engineering: Genetic engineering kaise bane

Career In Genetic Engineering: Genetic engineering kaise bane

Career in MicrobiologyCareer in Prohibition Excise Inspector

How to Make a Career in Biochemistry

क्लिनिकल टॉक्सोलॉजी(Clinical  toxicology):  इसके तहत उन प्रक्रिकायों के किया जाता है जो बीमारी की अवस्थाओं के उपचार, सुधार, या रोकथाम, या दवाओं के प्रभाव, जो एक समय में, का उपयोग करने के लिए होता है। कई Diagnostic ​​toxicology हॉस्पिटल में काम करते है। डायग्नोस्टिक टॉक्सोलॉजी मार्गदर्शन देने में सक्षम हैं कि कैसे या तो जानबूझकर या जानबूझकर उन रोगियों का डायग्नोस्टिक किया जाए जो किसी दवा या किसी अन्य पदार्थ से दूषित हो चुके हैं।

एप्लाइड टॉक्सोलॉजी (Applied toxicology): एप्लाइड टॉक्सोलॉजिस्ट में इसके तहत काम आने वाली तकनीकों, रिसर्च, को लागू किया जाता है। एप्लाइड टॉक्सोलॉजिस्ट एक प्रशासित उत्पाद के शारीरिक प्रभाव या सुरक्षा को निर्धारित करने का प्रयास करते हैं।

वैटेनरी टॉक्सोलॉजी (Veterinary toxicology) : पशु चिकित्सा विषाक्तता पशु चिकित्सा साम्राज्य में प्राकृतिक और मानव निर्मित रसायनों, ऊर्जा के रूपों, और गैसों के प्रभाव के अध्ययन, निदान और उपचार से निपटने वाली पशु चिकित्सा की विशेषता है।

फॉरेंसिक टॉक्सिकोलॉजी (Forensic toxicology): यह विषाक्तता और विषयों जैसे विश्लेषणात्मक रसायन विज्ञान, फार्माकोलॉजी, और नैदानिक ​​रसायन विज्ञान का उपयोग है जो मृत्यु, विषाक्तता और नशीली दवाओं के उपयोग की चिकित्सा या कानूनी जांच में सहायता करता है। आप ने खास कर पढ़ा होगा कि फॉरेंसिक टॉक्सिकोलॉजी का उपयोग चिकित्सा या कानूनी जांच में किया जाता है।

एनवायरमेंट टॉक्सिकोलॉजी (Environment toxicology): पर्यावरण विष विज्ञान जीवों पर विभिन्न रासायनिक, जैविक और भौतिक कारणों के हानिकारक प्रभावों के अध्ययन से संबंधित विज्ञान का एक बहु-विषयक क्षेत्र है। पर्यावरण विष विज्ञान पर्यावरण पर कार्बनिक और अकार्बनिक दोनों पदार्थों के प्रभावों का अध्ययन है। पर्यावरणीय विष विज्ञान मानव निर्मित और प्राकृतिक यौगिकों द्वारा स्वास्थ्य और पारिस्थितिकी तंत्र पर परिणामों का अध्ययन है। इसमें पर्यावरण में और पारिस्थितिक तंत्रों में रासायनिक यौगिकों के प्रभाव का विश्लेषण करना शामिल है जिसमें वे शामिल हैं।

इंडस्ट्री टॉक्सिकोलॉजी(Industrial toxicology): औद्योगिक विष विज्ञान कार्यस्थल में उपयोग किए जाने वाले रसायनों, कंपनियों द्वारा उत्पादित उत्पादों और विनिर्माण में निर्मित कचरे द्वारा मनुष्यों पर हानिकारक प्रभावों का अध्ययन है। औद्योगिक विष विज्ञान बड़े विष विज्ञान की एक शाखा है जो सभी प्रकार के रासायनिक यौगिकों, भौतिक एजेंटों, और प्रक्रियाओं, जैसे दवाओं के हानिकारक प्रभाव को संबोधित करता है।

बायोकेमिस्ट (Biochemist ): बायोकेमिस्ट बायोलॉजिस्ट और केमिस्ट हैं जो दोनों विज्ञानों के सिद्धांतों का अध्ययन करते हैं और उन्हें अपने अध्ययन के क्षेत्र में लागू करते हैं। बायोकेमिस्ट शिक्षा आवश्यकताओं में जीवित चीजों और जैविक प्रक्रियाओं, जैसे सेल विकास, विकास, आनुवंशिकता और बीमारी के रासायनिक और भौतिक सिद्धांतों का अध्ययन करना शामिल है। बायोकेमिस्ट डीएनए, आनुवंशिकता और कोशिका विकास का अध्ययन करते हैं।

केमिस्ट (Chemist): एचेमिस्ट एक रिसर्च पेशेवर है जो विभिन्न अणुओं और यौगिकों के गुणों, भौतिक और रासायनिक संरचना का अध्ययन और विश्लेषण करता है। वह या वह अपने ज्ञान का उपयोग करता है और विभिन्न आणविक यौगिकों के मौजूदा गुणों और रासायनिक संरचना को संशोधित करके नए उत्पादों या यौगिकों को विकसित करता है।

Work profile

 टॉक्सीकॉलॉजी में यौगिकों की विषाक्तता और जीवों पर उसके प्रभाव का परीक्षण किया जाता है। टॉक्सीकॉलॉजिस्ट से कोर्स कर चुके प्रोफेशनल फ़ूड, पानी, हवा, मेडिसिन और अन्य पदार्थों में मौजूद जहरीले या नुकसानदायक तत्वों की सेफ्टी लिमिट की जांच और निर्धारण करते हैं। ये प्रोफेशनल केमिकल, हानिकारक गैसों के प्रभावों आदि का भी स्टडी करते हैं। इसके अलावा जहरीले पदार्थों और रेडिएशन का मानव पर प्रभाव का निरीक्षण टॉक्सीकॉलॉजिस्ट करते हैं। टॉक्सीकॉलॉजी दरअसल मनुष्य, पशु, पौधों और पर्यावरण पर विषाक्त पदार्थों के परिणामस्वरूप होने वाले नुकसानदायक प्रभावों का स्टडी ही है। इन प्रभावों से कैसे बचा जा सकता है या फिर किस प्रकार इन्हें कम किया जा सकता है, यह खोजना भी टॉक्सीकॉलॉजी के अंतर्गत आता है।

Career scope in Toxicologist

जैसे-जैसे हर इंडस्ट्री ग्रो हो रही है। ऐसे ही मेडिकल के अंतगर्त Toxicologist की भी विस्तार हो रहा है। टॉक्सीकॉलॉजिस्ट फार्मास्यूटिकल कंपनियों, फ़ूड इंडस्ट्री, कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री, कॉस्मेटिक इंडस्ट्री, आदि में काम कर सकते हैं। पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड्स में भी जॉब्स के मौके हैं। एन्वाइरनमेंटल हेल्थ, क्लिनिकल और फोरेंसिक टॉक्सीकॉलॉजी जैसे फील्ड्स में भी इन प्रोफेशनल्स की जरूरत होती है। इंडस्ट्री, गवर्नमेंट एजेंसियों, प्राइवेट कॉमर्शियल लैबोरेटरी, मैटेरियल साइंस टॉक्सीकॉलॉजी में टॉक्सीकॉलॉजिस्ट के लिए बेहतरीन मौके उपलब्ध हैं। बायोटेक्नोलॉजी कंपनियां, यूनिवर्सिटीज, हॉस्पिटल, रिसर्च सेंटर और कंसल्टिंग फर्म भी टॉक्सीकॉलॉजिस्ट को अपॉइंट करते हैं।

Main institute and university for Toxicologist course

  • जामिया हमदर्द, दिल्ली
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सीकॉलॉजिकल रिसर्च, लखनऊ
  • इंडियन वेटरिनरी रिसर्च इंस्टिट्यूट, बरेली
  • सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टिट्यूट, लखनऊ
  • डॉ बी आर राव अंबेडकर यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश

Salary in Toxicologist

इस फील्ड में सैलरी की शुरुआत ढाई से तीन लाख का सालाना पैकेज मिल सकता है। इसमें कई ब्रांच है जिसमें सैलरी अलग-अलग हो सकती है। इसके बाद में प्रोफेशनल के अनुभव होने पर सैलरी में भी इजाफा होता है।Toxicology के फील्ड में सैलरी कई मांपदडों पर निर्भर करती है। आप को बता दें कि फोरेंसिक टॉक्सोलॉजिस्ट के तौर आप अच्छी सैलरी मिल सकती है।

 

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो हमे कॉमेंट कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page और Instragram पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *