career in robotics: रोबोटिक्स में करियर कैसे बनाएं

career in robotics

Career in robotics.जैसे जैसे दुनिया तरक्की कर रही है। ठीक ऐसे ही तकनीक को जोरदार तरीके से अपनाया जा रहा है। जोखिम भरे को ज्यादातर रोबोटिक्स के जरिए किया जा रहा है। आज के दौर में दुनिया में अपने दिन-प्रतिदिन के काम पूरे करने के लिए रोबोटिक्स का  ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है। आप भी रोबोटिक्स में अपना करियर बना सकते हैं क्योंकि दुनिया भर में इसका भविष्य बहुत संभावनाएं है। इस लेख में आप को career in robotics के तहत. career in robotics, what is robotics, job profile robotics, career scope in robotics,  best collage and university and more, के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

Career in robotics

आज के दौर में विज्ञान और टेक्नोलॉजी (Science and technology) के युग में रोबोटिक्स हमारे लिए कोई नया शब्द नहीं है। आजकल देश-दुनिया के लोग अपने रोजमर्रा के जीवन और कारोबार में बड़े पैमाने पर रोबोट्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंडिया में इंडस्ट्रियल रोबोट्स का इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है और रोबोट्स के इस्तेमाल के मामले में भारत दुनिया-भर के देशों में 11वें स्थान पर है। तेजी से विकास हो रही हर इंडस्ट्री में रोबोटिक्स टेक्नोलॉजी की अहम रोल होता है।

भारत सरकार ने देश में स्थानीय इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए कई प्रोग्राम चलाए है। जिसमें ‘मेक इन इंडिया’ कॉन्सेप्ट के तहत अब भारत रोबोटिक्स की फील्ड में पूरे विश्व में अमरीका और चीन के बाद तीसरे स्थान पर सबसे बड़ा स्टार्टअप टेक्नोलॉजी बेस है। अगर आप भी रोबोटिक्स की फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आप के लिए यह करियर ऑप्सन अच्छा साबित हो सकता है।

What is robotics

रोबोटिक्स (robotics) विज्ञान की वह शाखा है जिसमें आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (artificial intelligence ) को विकसित किया जाता है और ऑटोमेटिक मैकेनिकल डिवाइस और कंप्यूटर प्रोग्रामिंग की मदद से एक मशीन तैयार की जाती है, जो स्वचलित और रिप्रोग्रामेबल होती है जिसे रोबोट कहा जाता है। रोबोट एक ऐसा सिस्टम होता है जिसमें सेंसर्स, कंट्रोल सिस्टम, मेनुपुलेटर्स, पावर सप्लाई और सॉफ्टवेयर सभी चीजें होती है जो मिलकर एक ऐसी मशीन बनाते है जो आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल करके खुद ही काम कर सकती है। रोबोटिक्स में इंजीनियरिंग की तीन ब्रांचों का इस्तेमाल किया जाता है जिनमें मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस का अध्ययन किया जाता है।

प्राचीन चीन, ग्रीस और मिस्र सभ्यताओं के अध्ययन से पता चलता है कि प्राचीन काल से ही मनुष्य ऐसे मशीनों के निर्माण करने के बारे में सोचते थे और यथासंभव प्रयास भी करते थे जो स्वतः चालित हो। लगभग दूसरी शताब्दी से ही इस क्षेत्र में हमेशा कुछ न कुछ किया जाता रहा है। आप को बता दें कि आधुनिक रोबोटिक्स के जनक के रूप में Joseph Frederick Engelberger को माना जाता है।

उन्होने पहले यांत्रिक श्रमिक का निर्माण किया था, जिसका नाम यूनिमेट्स था। आज की बात करें तो रोबोट तेजी से आम ज़िंदगी का एक हिस्सा बनता जा रहा है।

राबोट शब्द की उत्पत्ति चेक शब्द ‘रोबिट’ तथा स्लैव मूल के शब्द रोबोटा से हुई, जिसका अर्थ कार्य तथा गुलामी का काम है। आज के समय में जोखिम भरे काम के लिए रोबोटिक्स तकनीक की यूज किया जा रहा है।

आजकल रोबोट जोखिम भरे काम को भी करने लगे है आधुनिक दुनिया रोबोट हार्ट सर्जरी करते हैं, बारूदी सुरंगों को हटाते हैं तथा कारों की असेम्बलिंग का कार्य करते हैं। इसके अलावा वेल्डिंग, असेम्बलिंग, स्प्रे-पेटिंग, कटिंग तथा पूर्जों को लगाना कुछ ऐसे काम हैं, जिन्हें रोबोट द्वारा कुशलतापूर्वक किया जाता है।

Types of Robots

  • घरेलू रोबोट (Domestic Robot)
  • सेवा कार्य रोबोट (Service Robot)
  • चिकित्सा रोबोट (Medical Robot)
  • औद्योगिक रोबोट (Industrial Robot)
  • सैन्य रोबोट (Military Robot)
  • अन्तरिक्ष रोबोट (Space Robot)
  • ह्यूमनॉइड रोबोट (Humanoid)

Course eligibility

देश में ग्रेजुएशन लेवल पर विभिन्न रोबोटिक्स कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स ने किसी मान्यताप्राप्त एजुकेशनल बोर्ड से अपनी 12वीं क्लास साइंस स्ट्रीम फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स जैसे विषयों के साथ में पास करना अनिवार्य है। रोबोटिक्स में पोस्टग्रेजुएशन कोर्सेज के लिए स्टूडेंट्स ने अपनी बैचलर डिग्री मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स, इंस्ट्रूमेंटेशन एंड कंट्रोल और इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में हासिल की हो। स्टूडेंट्स को रोबोटिक्स में ग्रेजुएशन/ पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल के विभिन्न कोर्सेज करने के लिए GATE/ BITSAT, JEE (Main), JEE (Advanced) और SRMHEEE(PG) जैसे एंट्रेंस एग्जाम पास करने होते हैं।

Course for robotics 

  • बीई – रोबोटिक्स
  • एमई – रोबोटिक्स
  • एमई – मैकेनिकल (रोबोटिक्स एक विषय के तौर पर)
  • बीएससी – कंप्यूटर साइंस
  • एमएससी – कंप्यूटर साइंस
  • बीटेक – आर्टिफीशल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स
  • एमटेक – आर्टिफीशल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स
  • बीटेक – मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • एमटेक – मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • एमटेक – ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स
  • एमई – ऑटोमेशन एंड रोबोटिक्स
  • डिप्लोमा – एम्बेडेड सिस्टम एंड रोबोटिक्स (ऑटोनोमस प्रोग्राम)

Best college and university 

  • · इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (IIT), दिल्ली/ कानपूर/ हैदराबाद/ मद्रास/ रूड़की/ बॉम्बे
  •  अन्ना यूनिवर्सिटी
  • DAV यूनिवर्सिटी
  • ओस्मानिया यूनिवर्सिटी
  • आचार्य इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  •  नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, नई दिल्ली
  • बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, पिलानी
  •  इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ साइंस, बैंगलोर
  • हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज़, मुंबई/ देहरादून

Institute in abroad

  • पर्ड्यू यूनिवर्सिटी, यूएसए
  • यूनिवर्सिटी ऑफ लिवरपूल, ब्रिटेन
  • यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न, कनाडा
  • सिडनी यूनिवर्सिटी ऑफ पेनिसेल्वनिया, ऑस्ट्रेलिया
  • यूनिवर्सिटी ऑफ जॉर्जिया

Job profile in robotics

तेजी से बढ़े रहे इंडस्ट्री में रिबोट से संचालित कामों में बढ़त्तोरी हुई है। ऐसे इस फील्ड से कोर्स कर चुके कैडिेडेट के लिए भारत में रोबोटिक्स की फील्ड में अपना करियर शुरू करते हैं तो आप देश की बड़ी कंपनियों में रोबोट डिजाइनिंग और मेंटेनेंस से जुड़े विभिन्न काम कर सकते हैं. हमारे देश में रोबोटिक्स की फील्ड से जुड़े विभिन्न करियर/ जॉब प्रोफाइल्स निम्नलिखित हैं:

  • रोबोटिक्स प्रोग्रामर
  • रोबोटिक्स टेक्नीशियन
  • रोबोटिक टेस्टर
  • रोबोटिक स्पेशलिस्ट
  • रोबोट डिज़ाइन इंजीनियर
  • रोबोटिक्स सिस्टम इंजीनियर
  • रोबोट टेस्ट इंजीनियर
  • मेंटेनेंस इंजीनियर
  • कंसलटेंट एआई इंजीनियर
  • ड्रोन पायलट

 Career scope in robotics 

आज के समय में robotics के फील्ड में इनोवेशन हो रहा है। खास कर अधिकतर कामों में robotics Technology का इस्तेमाल किया जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक अगले 5 – 10 वर्षों में रोबोटिक्स की फील्ड में हमारे देश में जॉब और करियर के काफी अवसर उपलब्ध होंगे। अगर आप साइंस या इंजीनियरिंग में डिग्री होल्डर हैं और आपने इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमेशन या ड्रोन टेक्नोलॉजी में स्पेशलाइजेशन किया है तो आपके लिए आने वाले वर्षों में देश-दुनिया की रोबोट मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों सहित ऐसी इंडस्ट्रीज़ और कंपनियों में भी जॉब के अनेक अवसर उपलब्ध होंगे जो अपने कामकाज में रोबोट्स का इस्तेमाल कर रही हैं। खास बात यह है कि आप रोबोटिक्स की फील्ड से जुड़ा कोई स्टार्टअप भी शूरु कर सकते हैं। दरअसल, अभी भारत में रोबोट्स की डिजाइनिंग, डेवलपमेंट और प्रोग्रामिंग के लिए क्वालिफाइड, ट्रेंड और एक्सपीरियंस्ड प्रोफेशनल्स की काफी मांग है।

Salary Package in robotics 

देश में रोबोटिक्स से संबद्ध विभिन्न फ़ील्ड्स में प्रोफेशनल को शुरू में औसतन 4 – 5 लाख रुपये सालाना का सैलरी पैकेज मिलता है। कुछ वर्षों के अनुभव के बाद ये प्रोफेशनल को औसतन1 -2 लाख रुपये मासिक या इससे अधिक कमाते हैं। इन प्रोफेशनलकी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन, टैलेंट और वर्क एक्सपीरियंस का सीधा असर इनके सैलरी पैकेज पर पड़ता है। हांलाकि यह भी निर्भर करता है कि कंपनिया के हिसाब से सैलरी में कम या ज्यादा हो सकती है।

Top recruiters in India

  • इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (Isro)
  • टेक महिंद्रा लिमिटेड (Mahindra)
  • भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (Bhel)
  • डिफेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (Drdo )
  • टाटा(Tata)
  • भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर (Baarc)
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (iit)

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो हमे कॉमेंट कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page और Instragram पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *