career in microfinance/ माइक्रोफाइनेंस में बनाएं करियर

career in microfinance

Career in microfinance देश के बड़े- बड़े शहरों के साथ ही रुरल एरिया में भी फाइनेंस की जरुरतो को लेकर कंपनिया काम कर रही है। खास बात यह है कि पिछले कई सालों में इन कई कंपनियों ने देश के रुरल एरिया में फाइनेंस की जरुरतों को पूरा करने के लिए रुख किया है। आज के इस लेख में career in microfinance पर जानकारी दे रहे हैं। आइए जानतें है Course for microfinance, microfinance course eligibility, institute for microfinance, career scope in microfinance, job profile in microfinance, आदि के बारे में,

Career in microfinance

career in microfinance. माइक्रोफाइनेंस के अंतर्गत विभिन्न जरूरतों को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण जनता को छोटी-छोटी वित्तीय सुविधाएं उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाती है जो उनके लिए तो फायदेमंद हैं ही, रोजगार के लिहाज से भी खास है। इसके तहत दी जानेवाली मदद किसी व्यवसाय, जैसे Agriculture, Dairy,Tailoring, Poultry Farm  या व्यक्तिगत जरूरतों के लिए दी जाती है। इसमें खास कर छोटी राशि लोन के रूप में दी जाती है, जिसे साप्ताहिक या मासिक आधार पर वापस किया जाता है। यह लोन किसी एक व्यक्ति या समूह को दिया जाता है।

career in microfinance पिछले कई सालों में microfinance के फील्ड में कई कंपनिया ने आपने आप को उतारा है। देश में फाइनेंस से जुड़ी सेवाएं देने में माइक्रोफाइनेंस कंपनिया का बड़ा योगदान है। क्या आप भी इस फील्ड में करियर बनाने को सोच रहे है तो इस लेख में हम जानगें कि (career in microfinance) microfinance के फील्ड में कैसे करियर बना सकते है

What is a Microfinance

माइक्रोफाइनेंस, जिसे माइक्रोक्रिडिट भी कहा जाता है, एक प्रकार की बैंकिंग सेवा है जो बेरोजगार या निम्न-आय वाले व्यक्तियों या ग्रुप को प्रदान की जाती है, जिनके पास अन्य वित्तीय सेवाओं की कोई पहुंच नहीं होती है। इसके अंतर्गत खास कर छोटी राशि लोन के रूप में दी जाती है, जो 1 से 50 हजार तक की राशि ऋण के रूप में दी जाती है, जिसे साप्ताहिक या मासिक आधार पर वापस किया जाता है। यह लोन किसी एक व्यक्ति या समूह को दिया जाता है।

कई बैंक अतिरिक्त सेवाओं की पेशकश करते हैं जैसे कि वित्तीय और व्यावसायिक शिक्षा पर लोन, बचत खाते के साथ-साथ सूक्ष्म बीमा उत्पाद, और कुछ अन्य सेवाएं प्रदान करते हैं। माइक्रोफाइनेंस का लक्ष्य गरीब और निम्न आय वाले लोगों को आत्मनिर्भर बनने का अवसर देना है।

यदि आप Social Sector में कॅरियर बनाने की इच्छा रखते हैं, तो माइक्रोफाइनेंस (Microfinance) में बेहतर कॅरियर है। यहां सेवा भी है, समर्पण भी है और साथ ही अपने लिए Income का एक अच्छा जरिया भी। किसी भी देश, समाज की बेहतर वित्तीय स्थिति से ही उस देश के विकास की दिशा तय होती है। यही कारण है कि Economy को बेहतर बनाने के लिए तरह-तरह की योजनाएं बनाई जाती हैं। इसके बावजूद अधिकांश मामलों में देश की ग्रामीण जनता तक विकास योजनाएं ठीक ढंग से नहीं पहुंच पातीं।

ऐसे में ग्रामीण लोगों की मदद के लिए माइक्रोफाइनेंस जैसा कॉन्सेप्ट सामने आया है। इस सेक्टर की खास बात यह है कि मंदी के दौरान भी इस सेक्टर पर कुछ ज्यादा असर नहीं दिखाई दिया। नोबल पुरस्कार विजेता बांग्लादेश के मोहम्मद युनूस ने तो माइक्रोफाइनेंसिंग के मामले में एक मिसाल कायम की है। इसी क्रम में भारत के विक्रम अकूला (एसकेएस) का भी नाम लिया जा सकता है। इन लोगों ने माइक्रोफाइनेंस के माध्यम से न सिर्फगरीब जनता की मदद की है बल्कि रोजगार के भरपूर मौके भी उपलब्ध कराए हैं।  आप भी इनकी तरह बनने की इच्छा रखते हैं, तो माइक्रोफाइनेंस में कॅरियर बना सकते हैं।

Course and Eligibility

बैंकिंग और फाइनैंस या फिर माइक्रोफाइनेंस सेक्‍टर में करियर बनाने के लिए किसी भी संस्‍थान से डिप्‍लोमा या पीजी डिप्लोमा कोर्स करना जरूरी है। पीजी डिप्‍लोमा इन बैंकिंग ऐंड फाइनैंस (‘PG Diploma in banking and finance) और अडवांस डिप्‍लोमा इन बैंकिंग ऐंड फाइनैंस (Advance diploma in banking and finance) कोर्स कर इस सेक्टर में जॉब तलाश सकते हैं। डिप्‍लोमा कोर्स के लिए 12वीं कम से कम 50 फीसदी अंक के साथ पास होना जरूरी है, वहीं स्टूडेंट्स को ग्रैजुएशन के लिए किसी भी विषय में 50 फीसदी अंक से पास होना जरूरी है। कई संस्थान एससी/एसटी और ओबीसी को 5 फीसदी तक की छूट भी प्रदान करते हैं।

Career Scope 

आज के समय में कई माइक्रोफाइनैंसिंग (career in microfinance) ने अपनी सेवाओं का विस्तार कर रही है । इस फील्ड में कई तरह के जॉब भारत में NABARD, SIDBI आदि के अलावा विभिन्न बैंकों द्वारा भी माइक्रोफाइनैंसिंग की सेवाएं दी जाती हैं।  बैंक में जैसे, एसबीआई, बंधन बैंक, आदि। माइक्रोफाइनेंस इंस्टीट्यूशंस, जैसे, एसकेएस माइक्रोफाइनेंस, जनलक्ष्मी फाइनेंशियल सर्विसेज, उज्जीवन फाइनेंशियल सर्विसेज अर्नस्ट एंड यंग (ईएंडवाई),  बंधन, एसकेएस, माइक्रोक्रेडिट फाउंडेशन ऑफ इंडिया, साधना माइक्रोफिन सोसाइटी, कई माइक्रोफाइनैंस कंपनियां (एमएफआई) ग्रामीण क्षेत्रों में कार्यरत हैं, इसके अलावा परामर्श फर्म एग्रीबिजनेस एंड रूरल मार्केटिंग एंड सीएसआर कंपनियां, जैसे, पिडिलाइट, आईटीसी, इमामी, एनईईवी में जॉब के अवसर हो सकते है।

Salary

सैलरी 15-20 हजार रुपये से शुरू हो सकती है। बाद में बेहतर काम से आगे के रास्ते खुलते हैं। इस सेक्टर की प्रमुख बात यह भी है कि इसमें अनुभव प्राप्त कर लेने के बाद इंश्यारेंस कंपनियों, एनजीओ, बैंकों आदि में भी जॉब मिलने के मौके मिलने लगते हैं।

Institute

* इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, नई दिल्ली (www.ignou.ac.in)
* मणिपाल युनिवर्सिटी, कर्नाटक (www.manipal.edu)
* टीकेडब्लूएस इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग ऐंड फाइनैंस, नई दिल्ली (www.tkwsibf.edu.in)
* सिंबायॉसिस इंटरनैशनल (डीम्ड यूनिवर्सिटी), मुंबई, महाराष्ट्र (www.siu.edu.in)

Job Profile

  • Branch Manager
  • Micro-Finance Executive
  • Credit Officer
  • Field Coordinator
  • Collection officer
  • Customer Relationship Officer

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *