Career in geography: education qualification, career scope, salary, & more

Career in geography education qualification, career scope, salary

Career in geography: पृथ्वी ही ऐसा ग्रह है यहां जीवन है। जीवन के लिए अन्य ग्रह पर खोज चल रही है। अगर आपको अलग-अलग देशों, Climate, जंगल, पहाड़ों, नदियों आदि के बारे में जानने का शौक है तो ज्योग्राफी आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है। दुनिया की 90 फीसदी जनसंख्या उत्तरी गोलार्ध में रहती है। ज्योग्रॉफी ऐसा सब्जेक्ट हैं, जिसमें आपको अलग-अलग देशों, उनके मेप, वहां की क्लाईमेंट, उसका लोगों की लाइफस्टाइल पर पड़ने वाला असर, जंगल, पहाड़ों, नदियों आदि के बारे में स्टडी करने का मौका मिलता है। मानव जीवन के लिए यह करियर ऑप्सन एक खास महत्व रखता है। इस लेख में आप को Career in geography के तहत education qualification, career scope, salary, & more आदि के बारे में जानकारी दे रहे है उम्मीद है कि आप को यह लेख जरुर पंसद आएगा।

Career in geography

आज के दौर में तेजी से क्लाईमेंट चेंज हो रहा है। इस लिए कई तरह से परेशानियां सामने आ रही है। लोगो के लिए ऐसी संस्थाए काम करती है। Geography एक ऐसा करियर फील्ड है जो आप को कई देशों के साथ में  Climate, फॉरेस्ट, उसके लोगों की लाइफस्टाइल पर पड़ने वाला असर, माउनटेंन, नदियों आदि के बारे में स्टडी करने का मौका मिलता है। अगर आप के अंदर में इन के तहत जानने और स्टडी करने रुचि रखते है तो आप के लिए बेस्ट करियर ऑप्सन साबित हो सकता है।

What is Geography

हम कई बार Geographers के बारे में पढ़ते हैं। असल में ये साइंटिस्ट होते हैं जो कि भूगोल की अलग-अलग ब्रांच की स्टडी करते हैं। जैसे कि फिजिकल ज्योग्राफी, एनवायरनमेंट ज्योग्राफी, ह्यूमन ज्योग्राफी आदि। Geography सोशल और नेचुरल साइन्स को प्रभावित करने वाला एक अनुशासन है और इसमें Earth की सतह पर विभिन्न स्थानिक (यानि की एक स्थान के डेटावेस) और सोशल घटनाओं का स्टडी शामिल है। ज्योग्राफी की दो मुख्य ब्रांच हैं- भौतिक भूगोल (Physical Geography) और मानव भूगोल (Human Geography) भौतिक भूगोल पृथ्वी से संबंधित विभिन्न प्राकृतिक घटनाओं की स्थानिक विशेषताओं का स्टडी की जाती है।  Human Geography ह्यूमन बिहेवियर और प्रक्रियाओं का स्टडी शामिल है और वे जिस भौतिक स्थान में रहते हैं, उससे संबंधित हैं। भौतिक भूगोल प्राकृतिक विज्ञानों में आता है जबकि मानव भूगोल सामाजिक विज्ञान में शामिल है।

यह भी पढ़े-

Union Budget 2021- 2022 on Education: खुलेंगे 100 नए सैनिक स्कूल, बनेगा उच्च शिक्षा आयोग,जानें Union Budget  2021 में शिक्षा को क्या मिला

what is Quantum Computer: ऐसी तकनीक जिसके आगे बच्चे हैं आज के सबसे शक्तशाली सुपर कप्यूटर्स!

Happy Republic Day 2021 Wishes: गणतंत्र दिवस पर अपनों को ऐसे बधाई, देशभक्ति का जोश भर देंगे ये SMS और इमेज

career in robotics: रोबोटिक्स में करियर कैसे बनाएं

stenographer kaise bane/ How to become stenographer

 

इसके फील्ड में जाने के लिए आप को Education Qualification के तौर पर ग्रेजुअट स्तर पर बीए, बीएससी सहित ज्योग्राफी की डिग्री और स्नातक स्तर पर एमए, एमएससी कर सकते है तो देश के विभिन्न कॉलेज में यह कोर्स को संचालित किए जाते है। आज का दौर सूचना क्रान्ति है ऐसे में ज्योग्राफी में ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) और ज्योग्राफिक इनफर्मेशन सिस्टम का कॉन्सेप्ट काफी मददगार साबित हो रहा है। इनकी मदद से कई काम आसान हो गए हैं।

Education Qualification

अगर आपने 12वीं में आर्ट्स या साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई की है तो इसके बाद आप जियोग्राफी सब्जेक्ट में तीन साल की बैचलर्स डिग्री कर सकते हैं। आप बीए या बीएससी जियोग्राफी कर सकते हैं।  कुछ विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में कुछ डिग्री कोर्स में प्रवेश के लिए, एक प्रवेश परीक्षा देनी होती है। जिसे कैडिडेट को पास करना होता फिर एडमिशन होता है। विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के प्रवेश परीक्षा के पैटर्न की बात करें तो आप को जिस किसी की विश्वविद्यालयों और कॉलेजों की एडमिशन टेस्ट देना चाहते है तो आप उस बेवसाइट पर जाकर देख सकते है। बैचर्स के बाद आप किसी स्पेशलाइजेशन के साथ दो साल का मास्टर्स कोर्स कर सकते हैं। इसके अलावा आप इस फील्ड में पीएचडी भी कर सकते हैं।

ज्योग्राफी में एक डिग्री के साथ, छात्रों को डेटा संग्रह, विश्लेषण, प्रस्तुति, समस्या पहचान और मूल्यांकन, रिपोर्ट बनाना और प्रस्तुति, आदि में को लेकर प्रशिक्षिण दिया जाता है। भूगोल के विशाल दायरे के कारण, विषय पर्यावरण प्रबंधन, भौगोलिक जानकारी जैसे कई अलग-अलग पहलुओं में विभाजित होता है। सिस्टम, मौसम विज्ञान, शहरी नियोजन, शिक्षण और अनुसंधान।

Course in geography

Under graduate course

बीए इन ज्योग्राफी
बीए ऑनर्स इन ज्योग्राफी

Post Graduate course in geography

मास्टर ऑफ इन ज्योग्राफी
मास्टर ऑफ इन जूलॉजी
एमफिल और पीएचडी कोर्सेज
मास्टर ऑफ फिलोसफी इन ज्योग्राफी
डॉक्टर ऑफ फिलोसफी इन  ज्योग्राफी
डॉक्टर ऑफ फिलोसफी इन पॉलिटिकल ज्योग्राफी

Diploma course in geography

एडवांस कोर्सेज इन ज्योग्राफी
एडवांस डिप्लोमा इन कार्टोग्राफी
एडवांस डिप्लोमा इन रिमोट सेंसिंग और जीआईएस एप्लीकेशनंस
सर्टिफिकेट कोर्स इन ज्योग्राफी
सर्टिफिकेट कोर्स इन ज्योग्राफिक  इंफोरर्मेशन सिस्टम

Career Scope

ज्योग्राफी की फील्ड में जॉब की काफी संभावनाएं हैं। इस क्षेत्र में ट्रांसपोर्टेशन, एयरलाइट रूट व शिपिंग रूट प्लानिंग, काटार्ग्राफी, सेटेलाइट टेक्नोलॉजी, जनसंख्या परिषद, मौसम विभाग, आपदा प्रबंधन, पर्यावरण विज्ञान, एजुकेशन, सिविल सर्विसेज ., ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स ऑफिसर, जर्नलिस्ट, एन्वायरन्मेंटल लॉयर, वेदर फोरकास्टर, लैंडस्केप आर्किटेक्ट आदि क्षेत्रों में जॉब पा सकते हैं। इसके अलावा आप इस सब्जेक्ट में टीचिंग के फील्ड में भी करियर बना सकते हैं। भूगोल में पेशेवर तौर पर प्रशिक्षित लोग रिमोट सेंसिंग, मैप, खाद्य सुरक्षा, बायोडाइवर्सिटी संरक्षण आदि से जुड़ी एजेंसियों में भी काम करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

Work Profile

 पर्यावरण सलाहकार : इनका मुख्य काम अपने वाणिज्यिक या सरकारी ग्राहकों से पर्यावरण संबंधी नियमों का पालन कराना और विभिन्न पर्यावरणीय मुद्दों पर काम कराना होता है। इन्हें सरकारी और जल से संबंधित संगठनों में जॉब मिलती है।

कार्टोग्राफर : इनका मुख्य काम नक्शा और उससे संबंधित डायग्राम, चार्ट, ट्रैवल गाइड आदि का निर्माण और विकास करना तथा पुराने नक्शों व दस्तावेजों का जीर्णोद्धार करना है। इन पेशेवरों को सरकारी, सर्वेक्षण, संरक्षण और प्रकाशन क्षेत्र में जॉब मिलता है।

टाउन प्लानर : इनका काम शहरों, कस्बों, गांवों व ग्रामीण क्षेत्रों के विकास और प्रबंधन की योजना बनाना; उसमें विकास के स्थायित्व और प्राकृतिक वातावरण की सुरक्षा सुनिश्चित करना; मौजूदा बुनियादी ढांचे में सुधार करना और पर्यावरण संबंधी मुद्दों का हल निकालना है। इन्हें सार्वजनिक व निजी दोनों क्षेत्रों में काम मिलता है।

ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स ऑफिसर : इनका मुख्य कार्य ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स (जीआईएस) से प्राप्त जटिल भौगोलिक सूचनाओं को एकत्र, संग्रहीत, विश्लेषित, प्रबंधित और प्रस्तुत करना है। इन सूचनाओं का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में पर्यावरण के अनुकूल निर्णय लेने के लिए किया जाता है। इन्हें रक्षा, दूरसंचार और परिवहन, मौसम विज्ञान, तेल, गैस आदि क्षेत्रों में रोजगार मिलता है।

कंजर्वेशन ऑफिसर : इनका कार्य प्राकृतिक वातावरण की रक्षा करना और पर्यावरण के अनुकूल तरीकों के बारे में स्थानीय समुदायों के बीच जागरूकता बढ़ाना है। मुख्य रूप से सार्वजनिक क्षेत्र में काम मिलता है।

रीसाइकिलिंग ऑफिसर : इनका मुख्य कार्य रीसाइक्लिंग को बढ़ावा देकर कचरे को कम करना। पर्यावरण के अनुकूल और अपशिष्ट पदार्थों में कमी की नीतियां व योजनाएं बनाना और विकसित करना है। सरकारी, रीसाइक्लिंग के प्रोजेक्ट्स या पर्यावरण पर काम करने वाली गैर सरकारी संस्थाओं में काम मिलता है ।

 आज के दौर में इस फील्ड में करियर के नए पेशे भी सामने आए है जिसमें कैडिडेट की रुचि हो तो इसमें जा सकते है। 

जर्नलिस्ट : पत्रकारिता का दायरा बड़ा है। इसमें किसी खास विषय में विशेषज्ञता पर आधारित पत्रकारिता के लिए भी काफी संभावनाएं हैं। भूगोल की पढ़ाई करके ट्रैवल राइटर, एन्वायरन्मेंटल जर्नलिस्ट बना जा सकता है। आज के समय में कई वेबसाइट हैं जो आप को पत्रकारिता के लिए भी इसमें करियर की राहें खोल दी है।

एन्वायरन्मेंटल लॉयर : इनका काम प्रदूषण की रोकथाम, जलवायु नियंत्रण और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए सामाजिक जगरूकता फैलाना है। यह पेशा अपनाने के लिए भूगोल में स्नातक करने के बाद नियम-कानून की जानकारी के लिए लॉ करना होगा।

लैंडस्केप आर्किटेक्ट : इस विषय में प्रशिक्षित पेशेवरों का मुख्य काम पार्क, नेचर रिजर्व, नई जगहों पर बसावट और इंडस्ट्रियल लैंडस्केप की रूपरेखा बनाना, उन्हें तैयार करना और उनका प्रबंधन करना है।

वेदर फोरकास्टर : इनका मुख्य काम मौसम का पूर्वानुमान व्यक्त करना है। इसी तरह कैटेस्ट्रोफ मॉडलर या इमरजेंसी प्लानर के रूप में भी काम कर सकते हैं, जिनका मुख्य काम लोगों को प्राकृतिक आपदा जैसी स्थितियों से निपटने के लिए तैयार करना है। इनका काम इंश्योरेंस कंपनियों को डाटा और कंप्यूटर कैलकुलेशन के जरिये यह बताना भी है किसी आपदा की स्थिति में उनकी कंपनी को कितना घाटा हो सकता है।

Salary

जियोग्राफी के क्षेत्र में सैलरी जॉब प्रोफाइल के अनुसार अलग-अलग मिलती है। जियोग्राफी के क्षेत्र में शुरूआती सैलरी लगभग 3 से 6 लाख सालाना हो सकती है। हालाँकि, अनुभव बढ़ने के साथ-साथ सैलरी भी बढ़ जाती है। यह भी निर्भर करता है कि कंपनी कौन सी है या फिर आप को अध्यापन में अच्छी सैलरी मिल सकती है।

Main collage

  • University of Delhi
  • University of Rajasthan
  • Institute of Geo-informatics & Remote Sensing
  • Jamia Millia University
  • Amity University
  • Savitribai Phule Pune University
  • Lovely Professional University
  • Panjab University
  • MS University, Baroda
  • University of Mumbai, Kalina
  • Madras Christian College

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *