Biotechnologist kaise bane/ बायोटेक्नोलॉजी में करियर कैसे बनाएं?

Biotechnologist kaise bane

Biotechnologist kaise bane:- नमास्कार दोस्तों स्वागत है आप का careerpedia.in ब्लॉग पर,  क्या आप को बायो में करियर बनाने कि रुचि है, क्या आप को क्या आप ऐसे करियर ऑप्सन के बारे में जानने चाहते है जो आप को बायो और टेक्नोलॉजी से संबधित काम करने का मौका मिल सकें, क्या आप बायोटेक्नोलॉजी में करियर कैसे बनाए इस टॉपिक पर जानकारी चाहते, तो सही लेख पढ़ रहे है।

आज के इस लेख में आप को बायोटेक्नोलॉजी में कैसे करियर बनाएं इस महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे है। इस लेख में Biotechnologist kaise bane के तहत हम जानगें कि what is biotechnology, career in biotechnology, how to make career in biotechnology,  how to become bio-technologist, biotechnology course, biotechnology career option, biotechnology career scope, salary आदि के बारें में जानेगें।

उन स्टुडेंट के लिए बायोटेक्नोलॉजी (Biotechnologist kaise bane) से संबधित कोर्स करना बहुत अच्छा साबित हो सकता है, जिनके पास 12वीं में साइंस सब्जेट था उनके लिए यह कोर्स उनका भविष्य निर्माता बन सकता है। आइये जानते हैं कि बायोटेक्नोलॉजी में कैसे करियर Biotechnologist kaise bane और इससे संबधित जानकारी के बारें में।

Biotechnologist kaise bane/ बायोटेक्नोलॉजी में करियर कैसे बनाए?

तेजी से उभर रहे मेडिकल फील्ड ऐसे कई करियर ऑप्सन है जिसमें नए स्टुडेंट करियर बना सकते है। मगर अफसोस की बात यह है कि ऐसे करियर के बारे में ज्यादा बात नहीं होती है, और स्टुडेट को इनके बारे में सही जानकारी नहीं मिल पाती है जिससे इस फील्ड में जाने के इच्छुक कैंडिडेट सही करियर फील्ड नहीं चयन कर पाते है।

बायोटेक्नोलॉजी की फील्ड कई सेक्टर को अपने में समाए हुए है। जिससे की लगातार हो रहे इनोवेशन से इस फील्ड में करियर  बनाने के बेहतर रोजगार अवसर प्राप्त हो रहे है। क्या आप भी इस फील्ड में जाने के इच्छुक हैं तो आप को इस लेख में बायोटेक्नोलॉजी में करियर कैसे बनाए Biotechnologist kaise bane इसके बारें में पूरी जानकारी मिल जाएगी

बायोटेक्नोलॉजी को शॉर्ट नाम  ‘बायोटेक’ के नाम से जाना जाता है और यह इंजीनियरिंग करने के इच्छुक उम्मीदवारों के बीच सबसे ज्यादा पसंदीदा कोर्सेज में से एक कोर्स है। बायोटेक्नोलॉजी साइंस की वह ब्रांच है जिसमें बायोलॉजी और टेक्नोलॉजी के आश्चर्यजनक मेल से रॉ मेटीरियल्स को आश्चर्यजनक इनोवेशन्स, डिस्कवरीज और प्रोडक्ट्स में बदला जाता है। जिससे की बायोटेक्नोलॉजी में फार्मास्यूटिकल (Pharmaceutical), फ़ूड मैन्युफैक्चरिंग (Food Manufacturing), हेल्थकेयर(Healthcare), एग्रीकल्चर (Agriculture), एजुकेशन और रिसर्च(Education and research)से संबद्ध कार्य शामिल हो गये हैं।

क्या है बायोटेक्नोलॉजी/ what is biotechnology?

सबसे पहले जान लेते है कि आखिर क्या है? बायोटेक्नोलॉजी- बायोटेक्नोलॉजी को ‘बायोटेक’ के नाम से भी जाना जाता है। बायोटेक्नोलॉजी को हिंदी में जैव प्रौद्योगिकी कहा जाता है। बायोटेक्नोलॉजी साइंस की वह ब्रांच है जिसमें बायोलॉजी और टेक्नोलॉजी के आश्चर्यजनक मेल से रॉ मेटीरियल्स को आश्चर्यजनक इनोवेशन्स, डिस्कवरीज और प्रोडक्ट्स में बदला जाता है।

आसान भाषा में समझे तो, बायो यानी जीवित प्रणाली और टेक्नोलॉजी मतलब तकनीक। इसके मुताबिक बायोटेक्नोलॉजी का मतलब है जीवित प्राणियों पर तकनीक का इस्तेमाल करना। किसी विशेष उत्पादों या पदार्थों को विकसित करने या बनाने के लिए जीवित प्रणालियों और जीवों का उपयोग किया जाता है, जिसे बायोटेक्नोलॉजी कहते हैं।

बायोटेक्नोलॉजी को अकसर बायोइंजिनियरिंग (bio engineering), बायोमेडिकल इंजीनियरिंग (biomedical engineering), मॉलिक्यूलर इंजीनियरिंग (molecular engineering) इत्यादि के क्षेत्रों के साथ जोड़कर देखा जाता रहा है। हजारों सालों से, मानव ने कृषि, खाद्य उत्पादन और दवा में जैव प्रौद्योगिकी (Agriculture, Food production, medicine, biotechnology ) का उपयोग किया है।

ऐसे स्टुडेंट जो बायोलॉजी के माध्यम से मेडिकल साइंस को बतौर करियर अपनाना चाहते हैं, और फील्ड में कुछ बेहतर करना चाहते है। ऐसे में biotechnology में  निस्संदेह उनके लिए यह क्षेत्र काफी आकर्षण और सफलता की बुलंदियों को छूने में सहायक सिद्ध हो सकता है। जाहिर है कि एमबीबीएस (M.B.BS) की सीमित सीटों और दिन प्रतिदिन खर्चीली होती है जो सब के लिए आसान नहीं है।

इसलिए पढ़ाई के दौर में युवा बायोटेक्नोलॉजी की राह को अपेक्षाकृत आसानी से पा सकते हैं और करियर को बायोसाइंस के क्षेत्र में ही Biotechnologist kaise bane संवार सकते हैं। अन्य प्रमुख विषयों की भांति, इसकी शुरुआत भी 12वीं के बाद ही होती है।

What is work Biotechnologist /बायोटेक्नोलॉजी क्या करता है?

बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियर किसी भी काम को एक अलग तरीके से करता है और उसका मकसद समाज दुनिया में अपने काम के माध्यम से परिवर्तन लाना होता है। जोकि उस फील्ड में इनोसेशन करता है। यह काम चाहे वो कृषि से रिलेटेड हो जोकि कोई बीज हो जिसपर एक्सपेरीमेंट करके एक नया बीज तैयार करना हो जिससे अच्छी पैदवार दे। किसी भी तरह का हेल्थ मेडिसिस बनाना हो।

बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियर अपनी रूचि के अनुसार बायोटेक्नोलॉजी से संबधित कोर्स ज्वाइन करता है और इन फिल्डस में अपना काम करता है जैसे- एनिमल हसबेंड्री, एग्रीकल्चर, मेडिसिन, जेनेटिक इंजीनियरिंग, एनवायरनमेंट कन्जर्वेशन, हेल्थकेयर और रिसर्च एंड डेवलपमेंट से जुड़े कार्य करता है।

Career scope in Biotechnology/ बायोटेक्नोलॉजी में करियर स्कोप

देश में बायोटेक्नोलॉजी के सेक्टर ने काफी महत्वपूर्ण जगह बना ली है। इस फील्ड के तहत सभी संभावित फ़ील्ड्स जैसे कि, फार्मास्यूटिकल(Pharmaceutical), फ़ूड मैन्युफैक्चरिंग (Food Manufacturing), हेल्थकेयर(Healthcare), एग्रीकल्चर (Agriculture), एजुकेशन और रिसर्च (Education and Research), से संबद्ध कार्य शामिल हो गये हैं। ऐसे में इन फ़ील्ड्स के अलावा भी अन्य कई फ़ील्ड्स में बायोटेक्नोलॉजी के योगदान को नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता है।

जैसेकि बायोफ़र्टिलाइज़र्स, बायोपेस्टीसाइड्स, ग्रीन रेवोलुशन या आईटी की फ़ील्ड में रेवोलुशन लाने वाली बायोइन्फॉर्मेटिक्स से संबंधित मुद्दे हों, बायोटेक्नोलॉजी भारत के युवा वर्ग के लिए रोज़गार के ढेरों अवसर मुहैया करवा रही है।

ऐसे नए कैंडडेट के लिए मेडिकल राइटिंग्स (Medical Writings), फार्मास्युटिकल कंपनियां(Pharmaceutical Companies), जेनेटिक इंजीनियरिंग (Genetic Engineering), हेल्थ केयर सेंटर्स (Health care center), एग्रीकल्चर सेक्टर( Agriculture Sector), एनिमल हसबेंड्री(Animal Husbandry), आईटी कंपनियां (IT Companies), रिसर्च लैबोरेट्रीज (Research Laboratories), फ़ूड मैन्युफैक्चरिंग (Food manufacturing), इंडस्ट्री के अलावा कॉलेज और विश्वविद्यालय आदि में इनके लिए मौके हो सकते है।

कैंडिडेट निजी क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ वेतन की उम्मीद कर सकता है । डाबर, रैनबैक्सी, हिंदुस्तान लीवर और डॉ रेड्डीज लैब्स जैसी बायोटेक्नोलॉजी में दवा कंपनियां जिनकी रिसर्च एंड डेवेलपमेंट कंपनियां हैं, वे बायोटेक्नोलॉजी प्रोफेशनल्स को एक अच्छा पैकेज  ऑफर करते हैं । बायो-टेक्नोलॉजिस्ट्स को हायर करने वाली प्रमुख कंपनियों में हिंदुस्तान लीवर, थापर ग्रुप, इंडो अमेरिकन हाइब्रिड सीड्स, बिनकॉन इंडिया लिमिटेड, आईडीपीएल और हिंदुस्तान एंटीबायोटिक्स शामिल हैं ।

Biotechnologist kaise bane/ How to become a Biotechnologist?

बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग (Biotechnologist kaise bane) इंजीनियरिंग  टेक्नोलॉजी का एक उभरता हुआ और मांग वाला क्षेत्र है। जैव प्रौद्योगिकी यानि कि बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग के कोर्स में, स्टुडेंट को चिकित्सा और जीव विज्ञान, कृषि और अनुसंधान, और टीकों के विकास में समस्याओं और विश्लेषण को हल करने के लिए इंजीनियरिंग विशेषज्ञता का उपयोग करने के लिए मिल जाएगा ।

बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग करने के लिए जरूरी है कि आपको 10 2 स्टैंडर्ड में मैथमेटिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी हो।  यूजी की डिग्री पूरी होने के बाद छात्रों को बैचलर ऑफ साइंस, बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग या बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी में कोर्स कर सकते है। जैव प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग कोर्स को तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है। जिसमें डिप्लोमा कोर्सेज,बैचलर डिग्री कोर्सेज, पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्सेज (मास्टर और पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा प्रोग्राम), पीएचडी कोर्सेज किए जा सकते है। जिसके बारे में Biotechnologist kaise bane हम आइए जानतें है।

यह भी पढ़ें:-

स्टॉकब्रोकर क्या है/ Stock broker kaise bane?

foreign exchange clerk kaise bane/ फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क कैसे बनें?

Museology क्या है? Museology Me Career Kaise Banaye?

career in actuarial science/ actuarial science में करियर कैसे बनाएं

Career in Retail Management: Education Qualification,Job profile,career scope, salary & more

Biotechnology course

Diploma Course:-

बायोटेक्नोलॉजी में डिप्लोमा प्राप्त करने के लिए, छात्र उन कॉलेजों में इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं जो 10 वीं क्लास पास करने के बाद छात्रों को यह डिप्लोमा कोर्स ऑफर करते हैं। इस कोर्स की डयूरेशन 3 वर्ष है।

  • Diploma in Biotechnology

Under gradate course:- जो इंस्टिट्यूट्स और यूनिवर्सिटीज अंडरग्रेजुएट कोर्सेज ऑफर करते हैं, वहां आप बायोटेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन करने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इस अंडरग्रेजुएट कोर्स की डयूरेशन 4 वर्ष है और छात्रों को इस अंडरग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए एक एंट्रेंस एग्जाम पास करना पड़ता है।

  • B.E. or B.Tech. in Molecular and Cellular Engineering
  • B.E. or B.Tech. in Industrial Microbiology
  • B.Sc. in Biotechnology

Post Graduate Course :- पोस्टग्रेजुएशन के लेवल पर, इस कोर्स को अक्सर बायोटेक्नोलॉजी में एमटेक या बायोटेक्नोलॉजी में एमएससी के नाम से जाना जाता है। यह उस यूनिवर्सिटी या इंस्टिट्यूट पर डयूरेशन करता है जो कैंडिडेट्स को पोस्टग्रेजुएशन की डिग्री या डिप्लोमा ऑफर करता है। पोस्टग्रेजुएशन लेवल पर इस कोर्स की अवधि केवल 2 वर्ष है।

  • M.Tech. in Biotechnology
  • M.Tech. in Bioinformatics
  • M.Tech in Bio-technical Engineering
  • M.Sc. in Biotechnology

Doctoral Course :- जो उम्मीदवार बायोटेक्नोलॉजी में डॉक्टोरल डिग्री हासिल करना चाहते हैं, वे अपनी पोस्टग्रेजुएशन पूरी करने के बाद पीएचडी कोर्सेज के लिए अप्लाई कर सकते हैं। पीएचडी कोर्सेज की डयूरेशन आमतौर पर 3 से 4 वर्ष की होती है जो थीसिस पूरी करने के लिए शामिल रिसर्च वर्क पर निर्भर करती है। पीएचडी फुल टाइम और पार्ट टाइम तरीके से की जा सकती है। पीएचडी करने के बाद में आप के टीचिंग लाइन में करियर बनाने के रास्ते खुल जाते है।

  • PG Diploma in Biotechnology
  • PhD in Biotechnology

बायोटेक्नोलॉजी में जाने के लिए आप को इसमें कोर्स करने के लिए एन्ट्रेंस एग्जाम्स से गुजरना पड़ेगा। आइए इन कोर्स  के लिए एन्ट्रेंस एग्जाम्स के बारे में जानतें हैं।

Under Graduate courses entrance exams:

National level exams:– सीबीएसई द्वारा आयोजित जेईई मेन, आईआईटी और एनआईटी में एडमिशन लेने के लिए जेईई एडवांस्ड

State Level Exams:- एपी ईएएमसीईटी, टीएस ईएएमसीईटी, केसीईटी, एमएएच-सीईटी , यूनिवर्सिटी लेवल के एग्जाम्स, वीआईटीईई ।

Postgraduate courses entrance exams:

National level exams:- गेट ,आईआईटी जेएएम (एमएससी के लिए ज्वाइंट एडमिशन टेस्ट)

State Level Exams:-ज्वाइंट ग्रेजुएट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेजीईईबीआईएलएस) बायोलॉजी और इंटरडिसिप्लिनरी बायोलॉजी के लिए आयोजित टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च ग्रेजुएट स्कूल द्वारा संचालित किया जाता है।

University level exams:- एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) एमएससी बायोटेक्नोलॉजी, जेएनयू सीईईबी कंबाइंड बायोटेक्नोलॉजी एंट्रेंस एग्जाम

Field of employment/रोजगार के फील्ड

बायोटेक्नोलॉजी से संबधित कोर्स पूरा करने के बाद कैडिडेट रोजगार के लिए इस एरिया में जॉब को सर्च कर सकते है।

1. मेडिकल लेखन
2.फ़ूड मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री
3. फार्मास्युटिकल कंपनियां
4. आईटी कंपनियां
5. हेल्थ केयर सेंटर्स
6. एग्रीकल्चर सेक्टर
7. एनिमल हसबेंड्री
8. जेनेटिक इंजीनियरिंग
9. रिसर्च लैबोरेट्रीज
10. कॉलेज और विश्वविद्यालय

Main institute and university

• Indian Institute of Technology, Kharagpur
• Indian Institute of Technology, Roorkee
• Vellore Institute of Technology
• Indian Institute of Technology, Guwahati
• National Institute of Technology, Warangal
• PSG College of Technology, Coimbatore
• National Institute of Technology, Durgapur
• Manipal Institute of Technology
• BMS College of Engineering, Bangalore
• Chaitanya Bharathi Institute of Technology, Hyderabad
• PES Institute of Technology, Bangalore
• SASTRA University, Thanjavur
• National Institute of Technology, Raipur
• GITAM University, Visakhapatnam
• Karunya University, Coimbatore
• Sathyabama University, Chennai
• Acharya Institute of Technology, Bangalore
• Dr B R Ambedkar National Institute of Technology, Jalandhar

बायोटेक्नोलॉजी इंजीनियर को सैलेरी/ salary in biotechnology

बायोटेक्नोलॉजी से संबधित किसी भी कोर्स को पूरा करने के बाद कैडिडेट को बायोटेक्नोलॉजी इंजिनियर को शुरूआती सैलेरी किसी भी प्राइवेट कंपनी में 30,000 रूपए से लेकर 1 लाख तक मिल सकती है। इसके अलावा यदि वह किसी सरकारी संस्था में कार्यरत होता है तो यह सैलेरी 1 लाख से 5 लाख प्रतिमाह हो सकती है। एक कुशल और अनुभवी बायोटेक्नोलॉजिस्ट को उनकी उम्मीदों से कहीं ज्यादा वेतन मिल सकता है। जोकि आप के अनुभव होने पर सैलरी में भी इजाफा होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *