Best 10 Career Option After 12th

Best 10 Career Option After 12th

Best 10 Career Option After 12th- छात्रों के12 वीं की परीक्षाएं खत्म होने के बाद में आगे की पढाई करने के बारे में सोचने लगाता है। वही रिजल्ट के आते ही आगे की पढाई के लिए एडमिशन की होड़ शुरू हो जाती है। लेकिन एडमिशन के दौरान एक समस्या है जो हर एक स्टूडेंट्स  को परेशान करती है, और वो समस्या है 12 वीं के बाद किस क्षेत्र में करियर बनाएं इसका चुनाव करना। लेकिन आप परेशान न हो आज हम आपको कुछ ऑप्शन के बारे में बताएंगे जिनका 12वीं के बाद चुनाव करके अपने करियर को सही दिशा दे पाएंगे।

हम करियर पीडिया डॉट इन आपको कॉमर्स से जुड़े करियर ऑप्शन के बारे में बताएंगे। यह एक ऐसा क्षेत्र है जहां करियर की असीम संभावनाएं हैं। इसके साथ ही आने वाले दिनों में अलग-अलग विषयों के अनुसार, कई बेहतर करियर ऑप्शंस के बारे में बताएंगे।

जैसा कि हम सब जानते हैं कि 12वीं के बाद कॉमर्स स्टूडेंट्स के लिए कई सब्जेक्ट्स बदल जाते हैं। इसलिए जो उनके लिए बेहतर करियर ऑप्शन हो सकते हैं। यहां हम आपको ऐसे 10 करियर विकल्पों / कोर्सेज के बारे में बता रहे हैं, जिनमें करियर का स्कोप भी अच्छा है।

Best 10 Career Option After 12th

1- बीकॉम (B.Com – Bachelor of Commerce)

सबसे साधारण और कॉमर्स के लिए सबसे ज्यादा अपनाया जाने वाला कोर्स। कॉमर्स में ग्रेजुएशन का ये कोर्स भारत के लगभग सभी यूनिवर्सिटीज व कॉलेजों में कराया जाता है। तीन साल के इस कोर्स में स्टूडेंट्स को अकाउंट्स से लेकर प्रबंधन तक की स्किल सिखाई जाती है। इस कोर्स को आप मैथ्स के साथ भी कर सकते हैं और बिना मैथ्स के भी। बीकॉम में कई क्षेत्रों के लिए स्पेशलाइजेशन मौजूद है। आप अपनी पसंद के अनुसार स्पेशलाइजेशन चुन सकते हैं।

2- बीबीए (BBA – Bachelor of Business Administration)

यह तीन साल का डिग्री प्रोग्राम होता है। जैसा कि अपने नाम से ही साफ है, ये कोर्स आपको इंडस्ट्रियल और मैनेजमेंट के स्किल्स सिखाता है। बीबीए में भी कई फील्ड्स में स्पेशलाइजेशन किए जा सकते हैं। जैसे एचआर, फाइनांस, मार्केटिंग, सेल्स व अन्य। अपनी पसंद के अनुसार आप किसी भी फील्ड में स्पेशलाइजेशन के साथ बीबीए कर सकते हैं।

3- अकाउंटेंसी प्रोग्राम (Accountancy Programs)

अगर आपका इंटरेस्ट अकाउंटेंसी के क्षेत्र में है, तो आप इसके लिए चलने वाले विभिन्न अकाउंटेंसी प्रोग्राम्स का लाभ उठा सकते हैं। जैसे चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA), सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंटेंट (CMA – Certified Management Accountant)। इन कोर्सेज के लिए भी हार्ड कोर मैथ्स की जरूरत नहीं है। लेकिन कोर्स के बाद करियर का स्कोप बेहतरीन है। सीए के लिए भारत में ICAI कोर्सेज कराता है।

4- कंपनी सेक्रेटरी (CS – Company Secretary)

भारत में ICSI यानी इंस्टीट्यूट ऑप कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया ये कोर्स बड़े स्तर पर कराता है। कंपनी सेक्रेटरी (CS) पूरी तरह से एक कॉर्पोरेट प्रोफेशनल कोर्स है। इस कोर्स के बाद बड़ी कंपनियों में करियर के आकर्षक विकल्प मौजूद हैं। मल्टीनेशनल कंपनियां (MNC) इसके लिए बेहतरीन सैलरी पैकेज भी देती हैं। इसके लिए भी मैथ्स की जरूरत नहीं है।

5- होटल मैनेजमेंट कोर्सेज (Hotel Management Courses)

2वीं के बाद आप बैचलर इन होटल मैनेजमेंट कर सकते हैं। ये तीन साल का कोर्स है। पूरी तरह रोजगार परक। इसमें कोर्स के बीच बड़े होटलों में इंटर्नशिप भी कराई जाती है। जिससे एक्सपोजर अच्छा मिलता है। होटल मैनेजमेंट के सेक्टर में भी कई स्पेशलाइजेशन के विकल्प मौजूद हैं। जैसे – बैचलर ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड केटरिंग टेक्नोलॉजी (Bachelor of Hospitality and Catering Technology), बैचलर ऑफ पूड एंड बेवरेज प्रोडक्शन (Bachelor of food and beverages production), बीबीए इन होटल मैनेजमेंट, बैचलर ऑफ केटरिंग मैनेजमेंट, बीए इन कलीनरी आर्ट्स (Bachelor in Cukinary Arts), बीए इन होटल मैनेजमेंट (BA in Hotel Management)।

6- ट्रैवल एंड टूरिज्म (Travel and Tourism)

ये बेहद तेजी से बढ़ता क्षेत्र है। अगर आपको घूमना, एक्स्प्लोर करना पसंद है तो बड़ा रोचक और मजेदार भी। जिसे मैथ्स की झंझट के बिना पूरा किया जा सकता है। ये कोर्स भी रोजगार को ध्यान में रखकर डिजाइन किया जाता है। कोर्स के दौरान ही आपको इंडस्ट्री का एक्सपोजर भी मिलता है। इस क्षेत्र में आप बीबीए इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट (BBA in Travel and Tourism Management), बैचलर ऑफ ट्रैवल एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट (Bachelor of Travel and Hospitality Management), बीए इन ट्रैवल एंड टूरिज्म (BA in Travel and Tourism), आदि।

7- बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड (Bachelor of Foriegn Trade)

अगर आपको बाजार की समझ रखनी है, विदेशी व्यापार के क्षेत्र में रुचि है तो ये कोर्स आपके लिए बेहतरीन साबित हो सकता है। 12वीं के बाद बैचलर ऑफ फॉरेन ट्रेड को चुना जा सकता है। ये तीन साल का ग्रेजुएशन प्रोग्राम है। इसमें लॉजिस्टिक्स, इंपोर्ट, एक्सपोर्ट, सप्लाई चेन मैनेजमेंट, लॉ पॉलिसी जैसे विषयों व क्षेत्रों के बारे में बताया जाता है।

8- ईवेंट मैनेजमेंट (Event Management)

पिछले कुछ सालों में ईवेंट मैनेजमेंट कंपनियों का मार्केट बढ़ा है। बड़ी पार्टीज से लेकर, सेमिनार, लाइव शोज, कॉर्पोरेट मीटिंग्स, गेट टुगेदर, प्रेस कॉन्फ्रेंस तक ईवेंट मैनेजमेंट कंपनियों द्वारा आयोजित कराए जाते हैं। इनकी मांग बढ़ी है। इसलिए ईवेंट मैनेजमेंट कोर्स की भी मांग बढ़ी है। ज्यादातर ईवेंट मैनेजमेंट कोर्सेज तीन साल के होते हैं। आप इस क्षेत्र में बीबीए इन ईवेंट मैनेजमेंट, बैचलर ऑफ ईवेंट मैनेजमेंट, बीए इन इवेंट मैनेजमेंट जैसे कोर्सेज कर सकते हैं।

9- बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (BMS – Bachelor of Management Studies)

मैनेजमेंट के क्षेत्र में करियर बनाने की चाहत रखने वाले इसे भी अपना सकते हैं। ये तीन साल का कोर्स है। बीबीए से मिलता जुलता ही कोर्स है बैचलर ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज। लेकिन खासतौर पर मैनेजमेंट स्किल्स पर फोकस करता है।

10- बैचलर ऑफ लॉ (Bachelor of Law)

लॉ की पढ़ाई का मतलब ये नहीं कि आप सिर्फ वकील ही बन सकते हैं। लगभग सभी बड़ी कंपनियां कानूनी सलाहकार, सेक्रेटरी तक अप्वाइंट करती हैं। जहां बेहतरीन सैलरी पैकेज मिलता है। देश के विभिन्न संस्थानों में कई इंटीग्रेटेड लॉ कोर्स भी चलाए जाते हैं। जैसे बीकॉम एलएलबी (B.Com LLB), बीबीए एलएलबी (BBA LLB), बीए एलएलबी (BA LLB), आदि।

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो हमे कॉमेंट कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page और Instragram पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *