AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE

AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE
AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE: आज के दौर में लगभग सभी स्टूडेंट अपने करियर को लेकर जागरूक हैं। हर स्टूडेंट चाहता है कि वह सही करियर ऑप्शन चुने। साथ ही स्टूडेंट यह भी चाहता है कि करियर ऑप्शन ऐसा हो जो उसके रूचि के अनुसार हो। हर स्टूडेंट की अपनी एक अलग पसंद होती है, जैसे किसी को सिंगर बनना है, किसी को डान्सर, कोई खिलाड़ी बनना चाहता है, कोई डिज़ाइनर, किसी को अध्यापक बनना है, किसी को डॉक्टर आदि। साथ ही स्टूडेंट्स यह चाहता है कि वह ऐसा करियर चुने जिसमें उसके लिए कई अवसर हों, अच्छी सैलरी हो, अच्छी करियर ग्रोथ हो। 

How to Make a Career in Audiology

वैसे तो मेडिकल क्षेत्र में रूचि रखने वालों के लिए कई बेहतरीन करियर ऑप्शन हैं। जैसे रेडियोलॉजी, हॉस्पिटल मैनेजमेंट और स्पोर्ट्स मेडिसिन और वायरोलॉजिस्ट आदि। ऐसे ही एक करियर ऑप्शन है, AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE। दोस्तों ये आज का उभरता हुआ करियर ऑप्शन है। क्योंकि आज के दौर में इन प्रोफेशनल की बहुत कमी है।

Also read:How to Make a Career in Biochemistry

इसके अलावा इसे करने के बाद आप अपनी रूचि के अनुसार काम कर सकते हैं, जैसे अगर आपको कंपनी में काम करना है तो कंपनी में काम कर सकते हैं और अगर आपको रिसर्च फील्ड की फील्ड में जाना चाहते हैं तो आप रिसर्च की फील्ड में जा सकते हैं, अगर आपको पढ़ाना अच्छा लगता है तो आप टीचर बन सकते हैं। और ये इस करियर का सबसे बड़ा प्लस पॉइंट है जो इसे और भी बेहतर बनाता है। आज इसे लेख में यही बाताउंगा कि आप AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE सकते हैं, सैलरी पैकेज क्या होगा और ग्रोथ कितना है और आपको क्या-क्या करना होगा।

Also read:How to Make a Career in Biochemistry

 What is an audiology course?

AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE आज के दौर में एक उभरता हुआ करियर है। ऑडियलजी का कोर्स करने के बाद आप प्राइवेट प्रैक्टिस कर सकते हैं। इसके लिए आपको प्राइवेट अस्पतालों या प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टरों से संपर्क करना पड़ेगा। प्राइवेट प्रैक्टिस के अलावा किसी मेडिकल डिवाइस बनाने वाली कंपनी में जॉब कर सकते हैं।
दरअसल कंपनी में प्रॉडक्ट डिजाइन और दूसरी फील्ड के लिए ऑडियलॉजिस्ट की जरूरत होती है। इसके अलावा ऑडियलॉजिस्ट रिसर्च की फील्ड में भी काम कर सकते हैं। वे इंसानों में सुनने की समस्या और उनके हल के लिए रिसर्च कर सकते हैं। उनको रिसर्च के लिए सरकारी एजेंसियों, इस फील्ड से जुड़ी सोसायटियों और अन्य ग्रुपों से ग्रांट मिलता है। और अगर आपको पढ़ाना अच्छा लगता है तो आप ऑडियलॉजिस्ट (AUDIOLOGY ME CAREER KAISE BANAYE) टीचर के तौर पर भी करियर बना सकते हैं।

Audiologist education

इस फील्ड में आप 12वीं के बाद भी करियर बना सकते हैं। 12वीं के बाद बैचलर ऑफ ऑडियलजी एंड स्पीच लैंग्वेज पथॉलजी का कोर्स कर सकते हैं। ग्रैजुएशन के बाद मास्टर ऑफ ऑडियलजी एंड स्पीच लैंग्वेज पथॉलजी और पोस्ट ग्रैजुएशन के बाद डॉक्टर ऑफ फिलॉस्फी इन ऑडियलजी कर सकते हैं। इसके अलावा आप ऑडियलजी में बीएससी और एमएससी भी कर सकते हैं।

योग्यता/एडमिशन की शर्तें:

कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए 12 वीं क्लास में कम से कम 50परसेंट मार्क्स होने चाहिए। कुछ में कम से कम 60 परसेंट मार्क्स भी मांगते हैं। इसके अलावा कुछ यूनिवर्सिटी/कॉलेज में ऐज लिमिट भी होती है।

कोर्स करने के लिए देश के प्रमुख संस्थान-

ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ स्पीच एंड हीयरिंग, बेंगलुरु
www.aiishmysore.in/en/academic_course9.html
यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड जीटीबी हॉस्पिटल, शाहदरा, दिल्ली
www.ucms.ac.in
टाटा मेमोरियल सेंटर, होमी भाभा नैशनल इंस्टिट्यूट, मुंबई
www.hbni.ac.in
पोस्टग्रैजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रीसर्च, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़
www.pgimer.edu.in/PGIMER_PORTAL/PGIMERPORTAL/home.jsp
आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज, महाराष्ट्र यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज, पुणे
www.afmc.nic.in
क्रिस्चन मेडिकल कॉलेज, तमिलनाडु, डॉ.एमजीआर मेडिकल यूनिवर्सिटी, वेल्लुरु
www.cmch-vellore.edu
कस्तुरबा मेडिकल कॉलेज, मणिपाल यूनिवर्सिटी, मेंगलुरु
www.manipal.edu/kmc-manipal.html
मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी, दिल्ली
www.mamc.ac.in

Audiologist work profile

-कान से संबंधित बीमारी से जूझ रहे मरीजों को इलाज मुहैया कराना।
-उपयुक्त दवा और उपचार बताना जैसे वैक्स क्लीनिंग, हीयरिंग एड्स, कोचलियर इंप्लानटेशन आदि।
-सुनने में दिक्कत का सामना कर रहे मरीजों को लिप रीडिंग और साइन लैंग्वेज से पढ़ने में मदद करना।
-सुनने में सहायक मशीनों या यंत्रों के काम करने के तरीके और उनकी तकनीक के बारे में जानकारी रखना।

Audiologist Salary

अगर देखें तो मौजूदा समय में भारत में ऑडियलॉजिस्ट की कमी है। इस कोर्स की डिमांड दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। इसमें कमाई योग्यता और प्रैक्टिस पर निर्भर करती है। शुरुआती सैलरी 20,000 रुपये से लेकर 30,000 रुपये महीने तक हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *