Astrobiology me career/How to make career in Astrobiology?

Astrobiology me career

नमास्कार दोस्तों स्वागत है आप का careerpedia.in ब्लॉग पर इस पोस्ट में आप को खगोल विज्ञान के महत्वपूर्ण करियर ऑप्सन के बारे में जानकारी दे रहे है। इस लेख में आप को  एस्ट्रोबायोलॉजी में करियर कैसे बनाए इसके बार में पूरी जानकारी दे रहे हैं।

Astrobiology me career:-  क्या आप किसी और दुसरे ग्रह पर जीवन ढूंढने का पढ़ाई करना चाहते है, क्या आप किसी दुसरे ग्रह पर जीवन ढूंढने का काम करना चाहते है क्या नासा, इसरों जैसी दुनिया की नासी स्पेस एजेन्सी के साथ काम करना चाहते है, क्या आप एस्ट्रोबायोलॉजी में कैसे करियर बनाएं इस टॉपिक पर जानकारी चाहते है तो आप सही लेख पढ़ रहे है दरअसल आज के इस लेख में आप को एस्ट्रोबायोलॉजी में कैसे करियर बनाए इस पर महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे है।

एस्ट्रोबायोलॉजी (Astrobiology me career) में कैसे करियर बनाए के तहत आप को What is Astrobiology, Astrobiology History, How to make career in Astrobiology, Astrobiology Education, Astrobiology course,  Astrobiology career scope, Job profile, आदि के बारे में जानकारी दे रहे है।

Astrobiology me career

मानव हमेशा से ही खोजी रहा है। जिससे की हम इतिहास में पाते है कि खगोल शास्त्री ने पृथ्वी के अलावा दुसरे ग्रह पर जीवन के खोज में शुरुआत की।  हजारों वर्षों से मनुष्यों ने रात के आसमान पर टकटकी लगाई है और जीवन की मौजूदगी के बारे में सोचा है, चाहे वह हमारे सौर मंडल में हो या किसी अन्य ग्रह के आसपास किसी नीले ग्रह या शरीर पर।

इस तरह के विचारों ने दुनिया भर में कल्पना, वैज्ञानिक मिशनों और धर्मों में अपनी अभिव्यक्ति पाई है। दार्शनिकों और सामान्य लोगों ने हमारे ग्रह पर जीवन के उदय को इंगित किया है। जिसका नतीजा है कि दुनिया में कई अपने-अपने देशों की स्पेस एजेन्सी है। जोकि अपने काम के लिए जानी जाती है। खगोल विज्ञान और जीवन विज्ञान के संगम की पढ़ाई का क्षेत्र है एस्ट्रोबायोलॉजी (Astrobiology me career)। इसमें ब्रह्मांड के कई प्रमुख ग्रहों पर जीवन की संभावनाओं की तलाश को लेकर शोध व अध्ययन कार्य (Astrobiology me career) किया जाता है।

क्या आप के जेहन में सवाल आता है कि पृथ्वी के अलावा यदि कहीं जीवन जीने के लिए कहा जाए तो क्या हो? कैसे रहेंगे, क्या खाएं-पीएंगे और सांस कैसे लेंगे आदि सवाल जेहन में आते हैं। तो खगोल विज्ञान और जीवन विज्ञान में आप को इन सवालों के जबाब मिल सकते है। खगोल विज्ञान और जीवन विज्ञान का एस्ट्रोबायोलॉजी में मिश्रित रुप है जिसमें असके तहत इसकी पढ़ाई की जाती है।

यह भी पढ़े:-

स्टॉकब्रोकर क्या है/ Stock broker kaise bane?

Museology क्या है? Museology Me Career Kaise Banaye?

foreign exchange clerk kaise bane/ फॉरेन एक्सचेंज क्लर्क कैसे बनें?

career in actuarial science/ actuarial science में करियर कैसे बनाएं

Career in Retail Management: Education Qualification,Job profile,career scope, salary & more

इसमें ब्रह्मांड के कई प्रमुख ग्रहों पर जीवन की संभावनाओं की तलाश को लेकर रिसर्च व स्टडी कार्य किया जाता है। कई सांइटिस्ट मानव के अलावा रोबोट को भी रिसर्च के लिए स्पेस में भेजते हैं ताकि वहां के बारे में जानकारी कर सकें। यह विषय काफी दिलचस्प होने के साथ थोड़ा हार्ड भी है लेकिन साइन्स स्ट्रीम के स्टूडेंट्स इस क्षेत्र से काफी आकर्षित होते हैं और इसमें कॅरियर बनाने के लिए आगे आते हैं। तो आइए जानते हैं इस क्षेत्र के बारे में और इसमें कैसे करियर (Astrobiology me career) बनाएं।

What is Astrobiology/ Astrobiology क्या है?

एस्ट्रोबायोलॉजी Astrobiology me career को हिंदी में खगोल कहा जाता है। यह विज्ञान, ब्रह्मांड में जीवन की ओरिजिनल, डेवलप, डिस्ट्रीब्यूशन और फ्यूचर से जुड़ा सब्जेकट है। इसमें फिजिक्स, कैमेस्ट्री, एस्ट्रोनॉमी, बायोलॉजी, इकोलॉजी, प्लैनेटरी साइंस, ज्योग्राफी और जियोलॉजी का इस्तेमाल कर दूसरी दुनिया में जीवन तलाशने पर काम किया जाता है।

चूंकि जीवन की उत्पत्ति से संबंधित विषय में साइंस स्ट्रीम से जुड़े हर व्यक्ति की जरूरत होती है। यही कारण है कि विज्ञान के क्षेत्र में बारहवीं या ग्रेजुएशन करने वाले स्टूडेंट्स इस कोर्स की पढ़ाई कर सकते हैं।

What is Astrobiology History

आप के मन में सवाल आया होगा कि एस्ट्रोबायोलॉजी के क्षेत्र में कब से काम शुरुआत की गई। मानव को हमेशा से ही दुसरे ग्रह के बारें में जानने की उत्सुकता रही है। अंतरिक्ष दुसरे ग्रह पर जीवन की खोज और दिलचस्प बना देती है। जीवन कैसे शुरू और विकसित होता है? क्या ब्रह्मांड में कहीं और जीवन है? पृथ्वी और अन्य ग्रहों में जीवन का क्या भविष्य है? इन सवालों का जवाब खोजने के लिए नासा द्वारा 1998 में नासा एस्ट्रोबायोलॉजी इंस्टीट्यूट की शुरुआत की गई थी।

भारत में भी एस्ट्रोबायोलॉजी को लेकर पंख तब लगें जब 2005 में एस्ट्रोबायोलॉजी से जुड़े एक्सपेरिमेंट्स की शुरुआत की गई थी। आईयूसीएए पुणे (इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्‍ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रो फिजिक्स) आईयूसीएए
और टीआईएफआर (यूजीसी-डीएई कन्‍सोर्टियम फॉर सांइटिफिक रिसर्च (यूजीसी-डीएईसीएसआर) ने मिलकर हैदराबाद में बैलून एक्सपेरीमेंट किया था।

 How to make career in Astrobiology

Astrobiology Education- एस्ट्रोबायोलॉजी में करियर बनाने के लिए आप को हॉयर एजुकेशन लेनी पड़ेगी। इस फील्ड में रिसर्च और लगतार स्टडी करने पड़ती है। एस्ट्रोबायोलॉजिस्ट बनने के लिए एस्ट्रोनॉमी, जियोलॉजी, इकोलॉजी, मॉलीक्यूलर बायोलॉजी, प्लेनेट्री साइंस, जियोग्राफी, केमिस्ट्री, फिजिक्स जैसे विषयों में ग्रेजुएशन अनिवार्य है।

यूजी के बाद इसमें डिप्लोमा, सर्टिफिकेट या एमएससी की पढ़ाई की जा सकती है। ऐसे स्टुडेट जो साइन्स स्ट्रीम 12वी की पढ़ाई की है। ऐसे स्टुडेट के लिए एस्ट्रोबायोलॉजी में करियर की राहें है।

Course eligibility

  • Bachelor Degree:- बैचलर कोर्स के लिए साइन्स स्ट्रीम के साथ 10+2 in में  55% मार्क के साथ पास होना चाहिए।
  • Master’s Degree: मास्टर कोर्स के लिए Sc/B.Tech में Geology, chemistry, biology, physics जैसे सब्जेक्ट का साथ होना चाहिए।

Astrobiology course

  • Bachelor’s Degree (B.Sc or B.Tech) in Astrobiology
  • M.Sc. in Astrobiology
  • Diploma course in Astrobiology

Best Astrobiology Colleges in India

देशभर में कई संस्थान और यूनिवर्सिटी हैं जो बैचलर्स, मास्टर्स आदि प्रोग्राम के अलावा सर्टिफिकेट व डिप्लोमा कोर्स और शोध कार्य भी संचालित करती है।

  • इंडियन एस्ट्रोबायोलॉजिस्ट रिसर्च सेंटर, मुम्बई / Indian Astrobiology Research Centre,Mumbai.
  • एम.पी. बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, बेंगलुरु /MP. Birla Institute of Fundamental Research, Bangalore.
  • फर्ग्यूसन कॉलेज, पुणे/Fergusson College, Pune.
  • सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी, पुणे/Savitribai Phule Pune University, Pune.
  • क्राइस्ट कॉलेज, बैंगलोर/Christ College, Bangalore.
  • मॉडर्न कॉलेज ऑफ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स, पुणे/Modern College of Arts, Science and Commerce, Pune.
  • टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई/Tata Institute of Fundamental Research, Mumbai.
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बेंगलुरु/ Indian Institute of Science, Bangalore.

Colleges abroad offering Astrobiology courses

  • फ्लोरिडा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, यूएसए /Florida Institute of Technology, USA
  • पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी, यूएसए/Pennsylvania State University, USA
  • वाशिंगटन विश्वविद्यालय, यूएसए /University of Washington, USA
  • नासा एस्ट्रोबायोलॉजी इंस्टीट्यूट, यूएसए/NASA Astrobiology Institute, USA
  • स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूएसए/Stanford University, USA
  • एडिनबर्ग विश्वविद्यालय, यूके/ University of Edinburgh, UK

कहां काम करने मिलेगा मौका

एस्ट्रोबायोलॉजी की पढ़ाई करने के बाद में एस्ट्रोनॉमी (astronomy), जियोलॉजी(Geology), स्पेस साइंस रिसर्च (Space science research), बायोमेडिकल रिसर्च(Biomedical Research) , एनवायरनमेंटल रिसर्च (Environmental research) के क्षेत्र में काम कर सकते हैं। बायोकेमिस्ट और एस्ट्रोनॉमर के तौर पर इसरो व नासा जैसे संस्थानों का हिस्सा बन सकते हैं।

इसके अलावा वैज्ञानिक, जियोसाइंटिस्ट, एस्ट्रोनॉमर, बायोकेमिस्ट आदि पदों पर काम कर सकते हैं। लंबे समय तक यदि आप इस क्षेत्र में शोध कर चुके हैं तो आप बतौर शिक्षक भी काम कर सकते हैं। देशी और विदेशी यूनिवर्सिटी या कॉलेजों में होने वाले रिसर्च कार्यों के दौरान आप बतौर एस्ट्रोबायोलॉजिस्ट काउंसलर के रूप में भी जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *