Assistant Professor kaise bane / How To Become Assistant Professor

Assistant Professor kaise bane-  नमास्कार दोस्तों स्वागत है आप का करियर पिडिया ब्लॉग पर, आज के इस ब्लॉग में आप को  Assistant Professor kaise bane / How To Become Assistant Professor के बारे  मे बात करेगें ऐसे कैडिडेंट जो Assistant Professor के तौर पर में अपनी राहें देख रहें है तो ये ब्लॉग उनके के लिए काफी हेल्पफुल साबित हो सकता है। इस ब्लॉग में Assistant Professor kaise bane  के बारे में जानेगें।

Assistant Professor kaise bane / How to become Assistant Professor?

आजकल ऐसे स्टूडेंट की संख्या बढ़ती जा रही है, जो PhD करने की सोचते हैं। वैसे आपके आपने या आसपास कई ऐसे लोग होंगे जो PhD करने के बारे में सोचते हैं। और एक प्रोफेसर के रूप में काम करना चाहते हैं। वैसे इच्छा हो भी क्यों न, क्योंकि इसमें सैलरी अच्छी खासी है, नाम भी है और एक प्रोफेशनल की तरह काम करना होता है। लेकिन अगर आप PhD डिग्री पूरी करने के बाद lectureship का विकल्प चुनना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको असिस्टेंट प्रोफेसर (Assistant Professor kaise bane) बनना होगा। इसलिए आज में आपको इस ब्लॉग में आपको एक assistant professor बनने के लिए कैसे-क्या करना होगा। सीधे तौर पर कहें तो एक assistant professor बनने के लिए कहां से शुरुआत करनी होगी A to Z सबकुछ बताऊंगा। आइए जानतें है।

Assistant Professor kaise bane

वैसे आपको आपको बता दूं कि इसमें कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपकी Specialization का क्षेत्र क्या है, अगर पके पास Teaching के साथ Research कार्य करने की skills है, तो आप Educational Institute में Assistant Professor  की post के लिए आसानी से आवेदन कर सकते हैं। Assistant professor बनने के लिए छात्रों को सबसे प्रभावी और नए तरीकों से निर्देश देना, डेली लेक्चर  तैयार करना, प्रशासनिक कार्य करना आदि जैसे कार्यों के लिए खुद को तैयार करना होगा।

 

Assistant Professor कैसे बनें? Step by Step

Step.1

Assistant Professor बनने के लिए आपका Undergraduate होना जरूरी है। यह इस दिशा में पहला और जरूरी कदम है। यानी आपको किसी भी विषय में अच्छे प्रतिशत या सीजीपीए के साथ बैचलर डिग्री पूरी करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही याद दिला दूं कि एजुकेशनल इंस्टिट्यूट assistant professor पद के लिए उन्हीं लोगों को चुनते हैं जिनका शैक्षणिक प्रदर्शन अच्छा होता या यूं कह लो जिनकी परसेंटेज अच्छी होती है।

Step.2

अब ग्रेजुएट होने के बाद स्टूडेंट्स को पोस्ट ग्रेजुएट होना होता है। लेकिन पोस्ट ग्रेजुएशन के समय स्टूडेंट को एक स्पेशलाइजेशन का विकल्प चुनना होगा जिसमें वह पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री करना चाहते हैं। आमतौर स्पेशलाइजेशन का जो क्षेत्र होता है वह स्टूडेंट्स की बैचलर डिग्री से रिलेटेड होता है। स्टूडेंट्स स्पेशलाइजेशन का क्षेत्र सावधानी से चुने क्योंकि जीवन भर इसी  स्पेशलाइजेशन क्षेत्र के साथ काम करना होगा।

Step.3

इसके अलावा अगर आप भारत में असिस्टेंट प्रोफेसर की जॉब प्रोफाइल लेने की प्लानिंग कर रहे हैं, तो मास्टर डिग्री हासिल करने के दौरान ही स्टूडेंट्स को UGC NET & JRF की तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

Step.4

मास्टर डिग्री के पूरा होने के बाद स्टूडेंट्स पीएचडी प्रोग्राम में प्रवेश ले सकते हैं। Students को कोर्स के अंत अपनी specialization के अनुसार एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट देने की आवश्यकता होती है। Assistant professor के रूप में करियर बनाने के लिए आपको यह सबसे महत्वपूर्ण कदम उठाना होगा। ये भी पढ़ें- CGPA kya hai: Convert CGPA to Percentage in hindi

Career in food technology: फूड टेक्नोलॉजी में कैसे बनाए करियर?

Machine Learning Engineer kaise bane / मशीन लर्निंग इंजीनियर कैसे बनें?

Nuclear Physicist Kaise Bane : Career in Nuclear Physics, become a Nuclear Physicist?

Cartographer kaise bane :- How to become Cartographer

Assistant Professor के लिए Eligibility

Assistant Professor के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए आइए जानते हैं-

  • एक assistant professor बनने के लिए स्टूडेंट्स के पास बैचलर डिग्री होनी चाहिए।
  • स्टूडेंट्स को मास्टर डिग्री मे 55% मार्क्स लाना आवश्यक है जो UGC Net परीक्षा लिए भी जरूरी हैं।
  • करने के बाद 2 साल ट्रेनिंग करनी पड़ती है , जहाँ उन सब्जेक्ट्स के बारे में पढ़ना पड़ता है जिसमे आपने PhD की है।
  • NET परीक्षा में general और OBC category कैंडिडेट को 55% मार्क्स की जरूरत है।
  • SC/ST को 50% मार्क्स की जरूरत है।

Assistant Professor कैसे बने और इसके Syllabus के बारे में जानकारी नीचे दी गई है।

UGC Net सिलेबस पेपर-1 सभी उम्मीदवारों के लिए पास करना ज़रूरी है। पेपर में एक से दस भाग  है हर भाग  में 5 प्रशन होते है। सिलेबस पेपर -2 ये एक विषय आधारित पेपर होता है ।

UGC Net सिलेबस पेपर -1 ये पपेर सामान्य होता इससे शिक्षण योग्यता का आकलन किया जाता है इसमें रीजनिंग, डेरिवेटिव्स , कॉम्प्रिहेंशन और सामान्य ज्ञान का पेपर पूछा जाता हैं ।

UGC Net सिलेबस पेपर -2 —इसमें विषय आधारित प्रश्न पूछे जाते है जिन अभ्यर्थियों ने पोस्ट ग्रेजुएशन में वरीयता देते हुए पेपर भरा है उन्हें एक विषय का चयन करना पड़ता है।

 सैलरी

असिस्टेंट प्रोफेसर की सैलरी लगभग 57000 – 90000 रुपए होती है।

Career Pedia को उम्मीद है कि इस पोस्ट में दी गई  जानकारी आपको पसंद आई होगी। अगर आपके कोई भी सवाल, सुझाव या इस लेख में कोई त्रुटि रह गई है तो हमे कॉमेंट और Email कर सकते हैं। हमारे You Tube Channel, Facebook page Linkdin page, Instragram और  Telegram channel पर जुड़ सकते है। वहां से करियर जानकारी के पोस्ट व वीडियों के लेटेस्ट नोटिफिकेशन पा सकते है। धन्यवाद !!